स्कूल भवन की जर्जर छत के नीचे बैठ रहे विद्यार्थी, हो सकता है हादसा

By: sachendra tiwari

Updated On:
25 Aug 2019, 09:30:00 AM IST

  • नहीं कराई जा रही भवन की मरम्मत

बीना. ग्राम चिकनोटा का प्राथमिक स्कूल जर्जर भवन में संचालित हो रहा है, जिससे यहां हादसे की आशंका बनी हुई है। इसके बाद भी यहां मरम्मत कार्य नहीं कराया जा रहा है। तेज बारिश में छत से पानी टपकने लगता है और स्कूल की छुट्टी करनी पड़ती है।
इस स्कूल भवन की छत नीचे छुकने लगी है, जिससे बारिश का पानी बीच में भर जाता है और यह पानी भवन के अंदर टपकने लगता है। छत से पानी न टपके इसके लिए शिक्षकों ने छत के बीच में छेद कर एक पाइप डाला है, जिससे छत का पानी बाहर निकल सके। इसके बाद कुछ राहत मिली है। साथ ही छत की बीम में दरार भी आ गई है, जिससे छत के गिरने का डर भी बन गया है। जर्जर छत से सीमेंट के टुकड़े कुछ जगहों से गिर भी गए हैं। यदि यहां मरम्मत नहीं कराई गई तो किसी दिन हादसा होने की आशंका बनी हुई है। स्कूल में बने शौचालय भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं, जिससे विद्यार्थियों को परेशान होना पड़ता है। इनकी भी मरम्मत नहीं कराई जा रही है।
अतिरिक्त कक्ष में लग रही आंगनबाड़ी
गांव में आंगनबाड़ी के लिए अभी तक भवन तैयार न किए जाने के कारण स्कूल के अतिरिक्त कक्ष में आंगनबाड़ी संचालित की जाती है। अतिरिक्त कक्ष में भी छत से पानी टपकता है, जिससे बारिश में आंगनबाड़ी का संचालन करने में भी परेशानी होती है।
आज कराएंगे भवन का निरीक्षण
आज सब इंजीनियर को भेजकर भवन का निरीक्षण कराया जाएगा। यदि भवन जर्जर है तो वहां कक्षाएं संचालित नहीं कराई जाएंगी। ब्लॉक के जितने भी जर्जर स्कूल हैं वहां कक्षाएं न लगाने के आदेश पहले ही जारी कर दिए थे।
डीसी चौधरी, बीआरसीसी, बीना

Updated On:
25 Aug 2019, 09:30:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।