हर खतरनाक स्थल पर लगेंगे सूचना पटल

By: Mangal Singh Thakur

Updated On:
25 Aug 2019, 05:42:19 PM IST

  • उफनते जलस्रोतों से दूर रहने की अपील जारी

मंडला. बारिश का मौसम अपने शबाब पर है। बरसाती नालों और बारिश के पानी ने पूरे जिले के सभी वाटर फॉल्स की जलधाराओं को उफान पर ला दिया है। एक ओर ये वाटर फॉल्स प्रकृति के जीते जागते नैसर्गिक दृश्यों से भरे पड़े हैं तो दूसरी और इन प्राकृतिक स्थलों के आसपास मानो मौत मंडरा रही है क्योंकि इन उफनती जलधाराओं का रोमांच लेने जिले भर से लोग यहां पहुंच रहे हैं और ज्यादातर पर्यटक सेल्फी लेने के चक्कर में अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं। एक जरा सी लापरवाही या भूलवश हुई गलती उनकी जान भी ले सकती है। पिकनिक स्पॉट और वाटर फॉल्स के नजदीक मंडरा रहे खतरे के मुद्दे को पत्रिका ने 18 अगस्त के अंक में प्रमुखता से उठाया और जनहित से जुड़ा होने के कारण जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने स मुद्दे पर तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।
कलेक्टर ने दिए निर्देश
कलेक्टर डॉ जगदीश चंद्र जटिया ने जान-माल के नुकसान को रोकने के लिए निर्देश दिए हैं कि खतरनाक जगहों पर सूचना पटल लगाया जाये। उन्होंने सीएमओ नगरपालिका को नर्मदा नदी के महत्वपूर्ण घाटों पर दुर्घटनाओं से बचने के लिए साईन बोर्ड लगाने को कहा एवं सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि अपने क्षेत्र में पंचायत स्तर तक दुर्घटनाओं से बचने की सूचना जारी करने एवं दुर्घटना संभावित क्षेत्रों में सूचना पटल लगाएं। इसके अलावा पुलिस अधीक्षक आरआरएस परिहार ने भी जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा कि किसी भी वाटर फॉल के समीप संदिग्ध अथवा लापरवाहीपूर्ण व्यवहार करने पर संबंधित थाने में तत्काल सूचित करें एवं सभी थानों को भी ऐसी सूचना मिलने पर तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
सर्वाधिक खतरा यहां
जिला मुख्यालय से लगभग 4 किमी की दूरी पर स्थित सहस्रधारा वाटर फॉल, निवास क्षेत्र में घुघरा वाटर फॉल, जिला मुख्यालय में रपटा घाट के एनीकट के पास जलधारा बेहद उफान पर है जिसे देखने पर लोगों में जबर्दस्त रोमांच पैदा होता है। ये सभी प्राकृतिक स्थल रोमांचक होने के साथ साथ खतरनाक भी हैं क्योंकि जरा सी लापरवाही बरतने पर व्यक्ति जलधारा के उफान में समा सकता है। हाल ही में रपटा के एनीकट से एक युवक बह गया और कुछ दूरी पर पुलिस को उसकी लाश मिली। हालांकि उसकी मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है लेकिन शव देखकर प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि युवक नहाने तो नहीं गया था। निवास में भाई को राखी बांधने के लिए घर से निकली महिला ने घुघरा जलप्रपात से छलांग लगा दी और उसकी मृत्यु हो गई। इससे पहले पदमी-रामनगर मार्ग पर उफनते नाले को में डूबी पुलिया को पार करने के रोमांच में एक ट्रैक्टर चालक वाहन सहित नाले में समा गया हालांकि उसे बचा लिया गया। सहस्रधारा के उफनते नर्मदा के समीप जाने पर नदी के तेज बहाव ने कार और उसमें सवार तीन लोगों को अपने आगोश में ले लिया हालांकि उन तीनों युवकों को भी बचा लिया गया।

Updated On:
25 Aug 2019, 05:42:19 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।