सऊदी अरब के उर्जा मंत्री से मिले धर्मेंद्र प्रधान, तेल के दाम को उचित स्तर पर रखने की मांग

By: Ashutosh Kumar Verma

Updated On: 26 Jul 2019, 06:14:48 PM IST

    • तेल टैंक तनाव के बाद कच्चे तेल और एलएनजी के टैंकरों की आवाजाही पर असर पड़ा।
    • भारत ने सऊदी अरब से ईंधन के दाम को उचित स्तर पर रखने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने की मांग की।

नई दिल्ली। भारत ने होरमुज जलडमरूमध्य में हाल में हुई घटनाओं को लेकर गुरुवार को चिंता जताई। इससे कच्चे तेल और LNG के टैंकरों की आवाजाही पर असर पड़ा है। साथ ही सऊदी अरब से ईंधन के दाम को उचित स्तर पर रखने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने की मांग की है।

सऊदी के ऊर्जा मंत्री खालिद अल - फलीह की भारत की यात्रा के दौरान यह चिंता जतायी गयी। सऊदी अरब के मंत्री उसके बाद चीन रवाना हो गए। सऊदी अरब इस रास्ते से जहाजों की सुरक्षित आवाजाही के लिए शीर्ष तेल खरीदार देशों से तालमेल बढ़ा रहा है। होरमुज जलडमरूमध्य तेल उत्पादक देशों को दुनिया के बाकी हिस्सों से जोड़ता है।

यह भी पढ़ें - यात्रीगण कृपया ध्यान दें! फिलहाल रेल किराया नहीं बढ़ायेगी केंद्र सरकार, पीयूष गोयल ने दी जानकारी

धर्मेंद्र प्रधान के साथ फलीह ने किया लंच

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने फलीह के साथ लंच पर बैठक के बाद ट्वीट में कहा , "सऊदी के ऊर्जा मंत्री खालिद अल - फलीह से मुलाकात हुई। इस दौरान वैश्विक तेल बाजार में चल रहे घटनाक्रमों पर बातचीत हुई।" प्रधान ने कहा , "बैठक में होरमुज जलडमरूमध्य क्षेत्र में तनाव से पेट्रोलियम/एलएनजी टैंकरों की आवाजाही पर पड़ने वाले असर , ओपेक एवं अन्य पेट्रोलियम उत्पादक देशों के उत्पादन में कटौती जारी रखने से कच्चे तेल की कीमतों में उतार - चढ़ाव और इसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव आदि को लेकर अपनी चिंता जताई।"

यह भी पढ़ें - ऑटो सेक्टर की मंदी से मारुति सुजुकी का बुरा हाल, पहली तिमाही में 27.3 फीसदी घटा मुनाफा

तेल टैंकर को लेकर बढ़ा तनाव

दो हफ्ते पहले ब्रिटेन ने ईरान का एक तेल टैंकर पकड़ लिया था , जिसके जवाब में ईरान ने भी पिछले हफ्ते खाड़ी क्षेत्र में एक ब्रिटिश टैंकर को जब्त कर लिया। जिसके बाद से तनाव बढ़ गया है। इससे पहले जून में दो टैंकरों पर विस्फोट करके क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। अमेरिका ने इस हमले का आरोप ईरान पर लगाया था। हालांकि , ईरान से इससे इनकार किया था। होरमुज जलडमरूमध्य क्षेत्र में चल रहे तनाव को लेकर भारत को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा क्योंकि वह पेट्रोलियम और गैस आपूर्ति के लिए काफी हद तक इस क्षेत्र पर निर्भर है। इस रास्ते से भारत दो - तिहाई तेल और आधी एलएनजी का आयात करता है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Updated On:
26 Jul 2019, 06:11:53 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।