बज उठे शंख-घडिय़ाल, आधी रात जन्मे नंद के लाल

By: Nilesh Kumar Kathed

Updated On:
24 Aug 2019, 11:49:03 PM IST


  • जन्माष्टमी पर सांवलियाजी में उमड़े श्रद्धालु
    भगवान के दर्शनों के लिए रही होड़
    कृष्णधाम सांवलियाजी में चौराहो पर बंधी माक्खन से भरी मटकीयां


चित्तौडग़ढ़. जन्माष्ठटमी पर शनिवार को आधी रात घड़ी में १२ बजते ही मंदिरों में भगवान कृष्ण के जयकारे गूंजने लगे। भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर्व मनाया गया। नंद के घर कान्हा का जन्म होते ही शहर और जिले के मंदिरों में शंख, घडिय़ाल और घंटों की गंूज सुनाई पड़ी। फिजां में यह ध्वनी जब गंूजी तो परिवेश धर्ममय हो गया। आधी रात को भी मंदिरों में भीड़ थी। भगवान के जन्मोत्सव पर शहर, दुर्ग और उपनगरों के मंदिरों में रात बारह बजे मंदिरों के पट खोलने के साथ ही विशेष आरती की गई। आरती के बाद हाथी, घोड़ा पालकी, जय कन्हैयालाल की, नंद के आनंद भयो गंूज के साथ ही परिवेश में कन्हैया के जयकारे गंूज उठे। प्रख्यात कृष्णधाम भगवान सांवलिया सेठ के मंदिर में जन्माष्टमी महोत्सव पर शनिवार को श्रद्धालुओं की भीड़ रही। निकाले गए जुलूस में विभिन्न चौराहो पर बंधी माक्खन से भरी मटकीयां फोड़ी। शनिवार को भी सांवलियाजी के हर सडक मार्ग पर वाहनों का तांता लगा रहा। पीपलोदा उज्जैन की व्यायाम शाला के अखाड़ा कलाकारों ने मंदिर से पूजा-अर्चना कर अखाडा प्रदर्शन शुरू किया, शुभारम्भ मदन तिवारी, अशोक तिवारी, विपीन जैन, संजय मण्डोवरा ने कलाकारों को उपन्ना पहना कर स्वागत किया। कलाकारों ने मण्डफिया के प्रमुख चौराहो व तिराहो पर बंधी मटकियां पिरामिड के माध्यम से फोड़ी। लोगों ने छतों व उंचे स्थानों पर जाकर मटकी फोडऩे के दृश्य का आनंद लिया। सांवलियाजी मंदिर में शुक्रवार से शुरू हुई श्रद्धालुओं की कतार शनिवार देर शाम तक जारी रही।
झांकियां बनी आकर्षण
सिंहद्वार के अन्दर नीमच की विद्युत स्वचलित झंाकियां श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केन्द्र रही। सिंह द्वार से प्रवेश करते ही श्रद्धालुओं ने भगवान कृष्ण, विष्णु के विभीन्न अवतार, श्रीराम, शिव से जुड़ी कई झांकियों के साथ लोगों ने सेल्फी ली। मंदिर मण्डल व श्रद्धालुओं की ओर से विद्युत सजावट के साथ मंदिर प्रवेश द्वारों तथा मंदिर परिसर के अंदर रंग-बिरंगे गुब्बारो, प्राकृतिक व कृत्रिम फुलो से आकर्षक विद्युत सजावट की गई। श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए मंदिर मण्डल द्वारा शुक्रवार से ही सिंह द्वार से प्रवेश कराया। मंदिर मण्डल द्वारा निजी गार्ड भी लगाए तथा पुलिस जाप्ता भी यहां तैनात रहा। यातायात व्यवस्था के लिए भी मीरा सर्किल पर पुलिस बल तैनात किया गया।
माखन-मिश्री का केक
मध्यप्रदेश के सांवलिया मित्र मण्डल द्वारा मध्यरात्रि में 101 किलो का माखन मिश्री का केक भी काटा गया। भगवान की जन्म जयंती मनाने के लिए इन्ही श्रद्धालुओं की ओर से मंदिर परिसर को गुब्बारों तथा तरह-तरह के फूलों से सजाया जा रहा है।

 

Updated On:
24 Aug 2019, 11:49:03 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।