ऑटो में बिठाए जा रहे क्षमता से तीन गुना ज्यादा बच्चे

By: Baban Rao Pathe

Updated On: 15 Apr 2019, 12:50:52 PM IST

  • ऑटो चालक स्कूली बच्चों को सामान की तरह ही ठूंस कर ढोते हैं। ट्रैफिक पुलिस, आरटीओ के जिम्मेदार सबकुछ देखकर भी आंखें मूंदे हुए हैं।

छिंदवाड़ा. बच्चे माता-पिता के लिए जान से प्यारे होते हैं। घर में अगर छोटी सी खरोंच भी आ जाए तो तूफान खड़ा हो जाता है, लेकिन वही बच्चे स्कूल जाते वक्त ऑटो में किस तरह बैठते हैं और उनकी जान कितनी जोखिम में होती है यह सोच भी नहीं सकते। ऑटो के चालक बच्चों को केवल कमाई का जरिया ही मानते हैं। ऑटो चालक स्कूली बच्चों को सामान की तरह ही ठूंस कर ढोते हैं। ट्रैफिक पुलिस, आरटीओ के जिम्मेदार सबकुछ देखकर भी आंखें मूंदे हुए हैं।

किसी भी स्कूल के छूटते समय ऑटो रिक्शा में दबे-सिकुड़े बैठे या अधलटके बच्चों को देखा जाता सकता है, लेकिन पुलिस और परिवहन विभाग के अधिकारियों को दिखाई नहीं देता। ठसाठस ऑटो में बैठे बच्चे हिलने-डुलने को भी मोहताज रहते हैं, वे भले ही इस बारे में कुछ न कहें, लेकिन उनकी आंखें दर्द बयां कर देती हैं। ऑटो रिक्शा वाले अपने थोड़े से मुनाफे के लिए बच्चों को यह कष्ट दे रहे हैं। इसे रोकने के लिए जिम्मेदार यातायात पुलिस और आरटीओ अपने मुनाफे को गंवाना नहीं चाहते। यही कारण है कि जिस ऑटो पर 5 बच्चों को बैठाना चाहिए, उसमें 15 से 20 बच्चे बिठाए जा रहे हैं। कार्रवाई का हवाला तो पुलिस और परिवहन विभाग के अधिकारी कई बार देते हैं, लेकिन कार्रवाई भी खानापूर्ति की तरह ही होती है।

हाईकोर्ट के आदेश की अनदेखीहाईकोर्ट के सख्त आदेश हैं कि ऑटो में तीन वयस्क या पांच बच्चों से अधिक नहीं बिठाए जाएं, लेकिन शहर की हर सडक़ पर इस आदेश की अवहेलना हो रही। स्कूली बच्चों को ऑटो में लगभग ठूंस-ठूंस कर भरा जाता है। ऐसा भी नहीं है कि ये ऑटो सिर्फ शहर की तंग गलियों वाले रहवासी क्षेत्रों में ही चल रहे हों, ये तो धड़ल्ले से मुख्य मार्गों से होते हुए स्कूल तक पहुंचते हैं। इन मार्गों-चौराहों में यातायात सुरक्षा के नुमाइंदे सब देखने के बाद भी कार्रवाई करना तो दूर नसीहत या चेतावनी देने की जहमत भी नहीं उठाते।

 

Updated On:
15 Apr 2019, 12:50:51 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।