पढ़े, मां-बेटी ने तमिलनाडू एक्सप्रेस से कटकर क्यों दी जान

By: Devendra Kumar Karande

Updated On:
19 Jul 2019, 05:04:02 AM IST

  • सदर ओवर ब्रिज के पास रेलवे टे्रक पर तमिलनाडू एक्सप्रेस से कटकर गुरुवार शाम पांच बजे मां-बेटी की मौत हो गई। मां-बेटी की दुर्घटना में मौत हुई है या फिर दोनों ने आत्महत्या की है। यह स्पष्ट नहीं हो सका है। जीआरपी ने फिलहाल दोनों के शवों को जिला अस्पताल की मरच्यूरी में रख दिया है।

बैतूल। सदर ओवर ब्रिज के पास रेलवे टे्रक पर तमिलनाडू एक्सप्रेस से कटकर गुरुवार शाम पांच बजे मां-बेटी की मौत हो गई। मां-बेटी की दुर्घटना में मौत हुई है या फिर दोनों ने आत्महत्या की है। यह स्पष्ट नहीं हो सका है। जीआरपी ने फिलहाल दोनों के शवों को जिला अस्पताल की मरच्यूरी में रख दिया है। शवों का पीएम शुक्रवार को किया जाएगा। जीआरपी पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है। वही प्रत्यादर्शियों के मुताबिक मां-बेटी द्वारा आत्महत्या करने की बात कही जा रही है। जिसमें पारिवारिक विवाद की बात भी सामने आई है।
जीआरपी पुलिस ने बताया कि डिप्टी एसएस द्वारा सूचना दी गई अप टे्रक पर तमिलनाडू एक्सप्रेस से कटकर एक महिला और एक बच्ची की मौत हो गई है। जीआरपी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पड़ताल की तो महिला की पहचान ३२ वर्षीय वैष्णवी कश्यप पति राजकुमार निवासी भारतभारती के रुप में गई है। वही बच्ची वैष्णवी की ही बेटी शिवांगी है। शिवांगी की उम्र १५ माह है। जीआरपी पुलिस ने आटो एंबुलेंस से मां और बेटी के शव को जिला अस्पताल पहुंचाया है। शाम होने से शव का पीएम नहीं हो सका है। शव मरच्यूरी में रखा गया है। जीआरपी पुलिस मामले की जांच कर रही है। जीआरपी ने मौके से मोबाइल जब्त किया है। घटना स्थल पर वैष्णवी का भाई राजीव कश्यप पहुंचा था।
दूर-दूर पड़े थे मां-बेटी के शव
घटना स्थल पर लोगों की भारी भीड़ लग गई थी। लोगों की चर्चा के मुताबिक वैष्णवी काफी देर से रेलवे टै्रक के पास ही मोबाइल पर किसी से बात कर रही थी और इसके बाद टे्रन के आते ही उससे टकरा गई। महिला टे्रन में फंसने से काफी दूर तक चली गई। जिससे दूर-दूर तक शरीर के टुकड़े फिंका गए थे। यहां तक कि महिला का चेहरा भी पहचान नहीं आ रहा था। वही बताया गया कि टे्रन से टकराने के बाद बच्ची फिंका गई। बच्ची का सिर का भेजा बाहर गया आ गया था। बच्ची और मां का शव ६० से ७० मीटर की दूरी पर पड़ा हुआ था।
बेटी का बर्थ डे मनाने आई थी मायके
वैष्णवी भारत-भारती की रहने वाली है। लगभग ढाई वर्ष पहले ही उसका विवाह छिंदवाड़ा निवासी राजकुमार सांडे से हुआ था। राजकुमार छिंदवाड़ा में निजी स्कूल में शिक्षक है। वैष्णवी लगभग तीन महीने पहले अपनी बच्ची का बर्थ डे मनाने मायके आई थी और तब से वही पर रह रही थी। गुरुवार अपने पति के साथ छिंदवाड़ा जाने वाली थी। शिवांगी एक ही बेटी थी।
इनका कहना
मां-बेटी की मौत टे्रन से कटकर हुई है। दुर्घटना है या आत्महत्या यह अभी स्पष्ट नहीं है। जांच के बाद स्पष्ट हो सकेगा। दोनों शव मरच्यूरी में रखवा दिए हैं। शुक्रवार पीएम कराया जाएगा।
रामजी राठौर, चौकी प्रभारी जीआरपी बैतूल।

Updated On:
19 Jul 2019, 05:04:02 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।