प्रदेश में मौसमी बीमारियों ने पसारे पैर

By: Puran Singh Shekhawat

Updated On:
24 Aug 2019, 06:31:13 PM IST

  • प्रदेश भर में बढ़े मरीज, स्वाइन फ्लू व डेंगू के ज्यादा मरीज
    अस्पतालों का बढ़ा आउटडोर

सीकर. प्रदेश में बारिश के बाद डेंगू, मलेरिया, वायरल सरीखी मौसमी बीमारियो ने पैर पसार लिए हैं। सरकारी और निजी अस्पतालों के आउटडोर में 12 से 15 फीसदी तक इजाफा हो गया है। प्रदेश में मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए चिकित्सा मंत्री ने समीक्षा बैठक में सभी सीएमएचओ को जरूरी निर्देश दिए हैं। निर्देशों के तहत जिला स्तर पर एक्शन प्लान बनाया गया है। क्षेत्र के अनुसार टीम गठित की गई है। ये टीम क्षेत्र में पिछले सालों में मौसमी बीमारियों के मरीज मिलने वाले स्थानों को चिन्हित कर एंटी लार्वल कार्रवाई करेगी। पहली बार जलभराव वाले स्थानों को चिन्हित करने के साथ ही कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। मच्छरों की रोकथाम के लिए एंटोमॉलोजिक सर्वे किया जाएगा। मुख्यालय की ओर से प्रदेश में पिछले सालों में स्वाइन फ्लू के फैलने और एक जांच लैब होने के कारण इस बार जिला स्तर पर जांच सुविधा शुरू करने का प्रयास किया जा रहा है।

पशुपालन विभाग के साथ बनाई रणनीति

स्क्रब टाइफस बीमारी को रोकने के लिए चिकित्सा व पशुपालन विभाग ने साथ रणनीति बनाई है। बढ़ रहे मामलों को देखते हुए पशुपालन विभाग के अधिकारियों को पायरेथ्रम का स्प्रे करने के निर्देश दिए हैं।

ये जिले सबसे ज्यादा प्रभावित
चिकित्सा विभाग की समीक्षा बैठक के अनुसार मौजूदा स्थिति में इससे प्रभावित जिलों में जयपुर, अलवर, उदयपुर, कोटा, झालावाड़, भरतपुर, अजमेर, करौली, टोंक, करौली, दौसा, सवाईमाधोपुर, सीकर, झुंझुनूं, बारां, झालावाड़, चित्तौडगढ़़ व राजसमंद आदि शामिल है।

यह है हकीकत
प्रदेश में एक जनवरी से अब तक डेंगू के 529 मरीज मिल चुके हैं जिनमें 26 मरीज सीकर के हैं। स्वाइन फ्लू के 171 मरीज मिले हैं जिनमें से छह की मौत हो चुकी है। पिछले एक माह में किए सर्वे में पता चला कि सीकर जिले में तीन सौ से ज्यादा ऐसी जगह है जहां मौसमी बीमारियों का प्रकोप रहा है। जिले में 1100 से ज्यादा जगह जलभराव वाली है। सर्वे में पता चला कि जिले के शहरी आबादी वाले क्षेत्र जिनमें नीमकाथाना और श्रीमाधोपुर इलाका है जिनमें मच्छरों की ब्रीडिंग ज्यादा हुई है। सौ में चार घर लार्वा पॉजीटिव है। पिछले एक माह में डेंगू, चिकनगुनिया और स्क्रब टाइफस के 317 एलाइजा हुए हैं।
इनका कहना है
अस्पताल का आउटडोर बढ़ा है। मौसमी बीमारियों के मरीज सामने आ रहे हैं। आगामी तीन माह में मौसमी बीमारी असर दिखाएगी।
डा. अशोक चौधरी, पीएमओ एसके अस्पताल सीकर

 

Updated On:
24 Aug 2019, 06:31:13 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।