कुदरत की दोहरी मार, बाढ़ के बाद अब भूकंप के झटकों से हिले असम और अरुणाचल प्रदेश

By: Dhiraj Kumar Sharma

Updated On: 19 Jul 2019, 06:47:04 PM IST

    • Earthquake tremor feels in Assam and Arunachal Pradesh
    • Flood in Assam के बाद अब Earthquake का खतरा
    • अरुणाचल प्रदेश का बोमडिला भूकंप का केंद्रबिंदु

नई दिल्ली। देश के पूर्वोत्तर राज्य से बड़ी खबर सामने आ रही है। पहले से ही कुदरत की मार झेल रहे असम में भूकंप के झटके ( earthquake in assam ) महसूस किए गए हैं। यही नहीं पूर्वोत्तर के एक और राज्य अरुणाचल प्रदेश में भी भूकंप के झटके ( earthquake in arunachal pradesh ) महसूस किए गए हैं। यहां रिक्टर पैमाने पर 5.5 की तीव्रता वाला भूकंप दर्ज किया गया। बताया जा रहा है कि भूकंप ( Earthquake Tremor ) का केंद्र बिंदु अरुणाचल प्रदेश के बोमडिला में था।

आपको बता दें कि असम में इस बार मानसून का सबसे ज्यादा असर दिखाई दिया है।

यहां हो रही लगातार बारिश के बाद आई बाढ़ ( flood in assam ) ने जमकर तबाही मचाई हुई है। सिर्फ असम में ही 53 लाख 52 हजार 107 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं।

मौसम का अलर्टः देश के 12 राज्यों में आज मेहरबान रहेगा मानसून, असम-बिहार में बिगड़े हालात

भूंकप से हिले असम-अरुणाचल

पिछले कुछ दिनों से बारिश के चलते बाढ़ का दंश झेल रहे पूर्वोत्तर राज्य असम और अरुणाचल के लिए शुक्रवार का दिन और डरावना साबित हुआ।

यहां कुदरत का एक और डंडा चला। दोनों राज्यों में भूकंप के झटके महसूस किए गए।

अरुणाचल प्रदेश में जहां 5.5 की तीव्रता वाला भूंकप दर्ज किया गया, वहीं असम में ऐसे ही झटके महसूस किए गए।

 

बाढ़ की मार: शवों को जलाने तक के लिए नहीं मिल पा रही जमीन, लगातार बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा

इन झटकों को बाद प्रशासन पूरी तरह अलर्ट हो गया है। किसी भी तरह की आपदा से निपटने के लिए टीमों का गठन किया जा रहा है।

हालांकि अब तक इन झटकों में किसी के हताहत होने की खबर नहीं मिली है।

लेकिन प्रशासन पूरी तैयारी के साथ किसी भी तरह की खतरे से निपटने के लिए मुस्तैद है।

आपको बता दें कि असम में अब तक बाढ़ के चलते 28 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

जबकि 53 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। 28 जिलों में से 4128 गांवों को अब तक खाली करवाया जा चुका है।

एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन के जरिये प्रभावित लोगों को बचाने में जुटी है।

Updated On:
19 Jul 2019, 04:10:17 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।