Reliance Industries के हर फैसले में होता है इस शख्स का हाथ, धीरूभाई और मुकेश अंबानी का है लाडला

By: Ashutosh Kumar Verma

Updated On: Apr, 19 2019 11:06 AM IST

    • मनोज मोदी मुकेश अंबानी के कॉलेज के दिनों से दोस्त हैं।
    • धीरूभाई अंबानी ने मनोज मोदी को विदेश में फाइनेंस की पढ़ाई करने से मना कर दिया था।
    • रिलायंस इंडस्ट्रीज के हर छोटे-बड़े फैसले के ब्लूप्रिंट पर करते हैं कड़ी मेहनत।

नई दिल्ली। आज यानी 19 अप्रैल को भारत ही नहीं बल्कि एशिया के सबसे बड़े अमीर शख्स मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani ) का जन्मदिन है। इस खास मौके पर आज हम आपको मुकेश अंबानी की सफलता और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ( Reliance Industries Limited ) के इस सम्राज्य को आगे बढ़ाने के पीछे की कुछ खास बात बताने जा रहे हैं। आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो मुकेश अंबानी की परछार्इ की तरह हैं और रिलायंस इंडस्ट्रीज ( RIL ) के हर छोटे-बड़े फैसले में इसका शख्स की अहम भूमिका होती है। तो आइए जानते हैं उनके बारे में।

यह भी पढ़ें - मुकेश अंबानी 1 घंटे में कमाते हैं 1.38 करोड़ रुपए, जानिए सुबह से लेकर रात तक किन कामों में रहते हैं व्यस्त

कॉलेज के दिनों से मुकेश अंबानी के साथ हैं मनोज मोदी

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी का बाया हाथ अगर किसी को माना जाता है तो वो मनोज मोदी ( Manoj Modi ) को माना जाता है। मनोज मोदी मुकेश अंबानी के सबसे खास लोगों में से एक हैं। बताया जाात है कि दशकों से अंबानी के चहेते रहे मनोज मोदी रिलायंस इंडस्ट्रीज में किसी आधिकारिक पोस्ट पर नहीं हैं, लेकिन फिर भी कंपनी से जुड़े हर छोटे-बड़े फैसले मनोज मोदी के बिना नहीं लिया जाता है। मुकेश अंबानी पहली बार मनोज मोदी से मुंबई के यूनिवर्सिटी डिपार्टमेंट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी में केमिकल इंजीनियरिंग के दौरान मिले थे। वित्तीय मामलों में बिना किसी औपचारिक ट्रेनिंग के बावजूद भी मनोज मोदी को पैसे और मुनाफे के बारे में बेहद तेज हैं, उन्हें इन सबके पीछे का गणित बखूबी आता है।

यह भी पढ़ें - अगर आपने भी Jet Airways से टिकट किया था बुक तो कर लीजिए ये काम, नहीं तो डूब जाएगा आपका पैसे

धीरूभाई और मनोज मोदी का दिलचस्प किस्सा

यही कारण है कि मनोज मोदी ने बहुत पहले ही मुकेश अंबानी के पिता और रिलायंस समूह ( Reliance group ) के संस्थापक धीरूभाई अंबानी ( dhirubhai ambani ) का भरोसा जीत लिया था। मोदी किसी भी प्रोजेक्ट के अच्छे और बुरे, दोनों पहलू के बारे में एनलिसिस करने में माहिर हैं। दोनों के बीच एक दिलचस्प किस्सा हम आपको बताते हैं। एक बार जब मनोज मोदी ने धीरूभाई अंबानी से पूछा कि मैं विदेश जाकर फाइनेंस में आगे की पढ़ाई करना चाहता हूं, तो कक्षा 10वीं पास धीरूभाई अंबानी ने कहा कि कोई जरूरत नहीं है, इससे केवल समय बर्बाद होगा। आप यहीं कड़ी मेहनत करें। इसके बाद मनोज मोदी ने पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा और आज वो रिलायंस इंडस्ट्रीज के हर प्रोजेक्ट के ब्लूप्रिंट पर कड़ी मेहनत करते हैं।

यह भी पढ़ें - जैक मा और जेफ बेजोस को भी पीछे छोड़ेंगे अंबानी, अब ऐसे करेंगे करोबार

मनोज मोदी को लाइमलाइट से दूर रहना पसंद

आमतौर पर मीडिया और लाइमलाइट से दूर रहने वाले मनोज मोदी अपनी सफलता का पूरा श्रेय धीरूभाई और मुकेश अंबानी को देते हैं। उन्होंने एक बार कहा था कि मुकेश अंबानी अपने आप में एक चलते फिरते यूनिवर्सिटी हैं और उनसे बहुत कुछ सीखा जा सकता है। उन्होंने यहां तक कहा कि अंबानी यूनिवर्सिटी से मैंने इतना कुछ सीख लिया है, जितना किसी इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल में नहीं सीख सकता। अब उन्हें उच्च शिक्षा न कर पाने का मलाल नहीं है। मनोज मोदी को इनकम टैक्स विभाग ने कई सालों तक सबसे अधिक व्यक्तिगत टैक्स चुकाने को लेकर 'राष्ट्रीय सम्मान पत्र' से भी नवाजा है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Published On:
Apr, 19 2019 10:50 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।