मौजूदा अवसर का लाभ उठा कर सस्‍ते में प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं बायर्स

By: alok kumar

Published On:
Apr, 08 2018 09:03 PM IST

  • राकेश यादव, सीएमडी, अंतरिक्ष इंडिया ग्रुप

वर्तमान सुस्ती से कई सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुए हैं जिनमें रियल एस्टेट भी शामिल है। रियल एस्टेट सेक्टर की मौजूदा स्थिति निवेशकों और घर खरीदारों को एक उपयुक्त अवसर उपलब्ध करा रही है। अगर, खरीदार के पास आवश्यक सूचनाएं हों और वह एक नीति के तहत काम करें तो वह सबसे बेस्‍ट डील प्राप्‍त कर सकता है। आज मैं आपको कुछ ऐसी जानकारियों के बारे में बाता रहा हूं जो आपको इस अवसर का अधिकतम लाभ लेने में मदद करेगा।

मौजूदा बाजार परिस्थितियों की जानकारी
वर्तमान में, किसी खरीदार को अगर किसी एक बड़ी चीज की जानकारी होनी चाहिए तो वह है इन्वेंट्री का स्तर। शहर चाहे जो भी हो लेकिन इन्वेंट्री का स्तर मोलभाव करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हालांकि, किसी खरीदार को यह बात भी समझ कर चलना चाहिए कि पिछले कुछ महीनों में कीमतों की चाल क्या रही है ताकि वह अपनी अपेक्षाओं को उसके अनुरूप रख सके।

महंगाई की तुलना में कीमतें नहीं बढ़ीं
पिछले कई सालों से देश के प्रमुख शहरों में प्रॉपर्टी की कीमतों में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई है। अगर हम इन कीमतों की तुलना थोक महंगाई दर से करें तो हम पाते हैं कि वास्तव में प्रॉपर्टी की कीमतों में मामूली गिरावट हुई है। इसलिए, मोलभाव करने के दौरान अपेक्षाओं को तर्कसंगत रखना ज्यादा अच्छा रहेगा।

विशेषज्ञ की सलाह लेने से न करें परहेज
आम तौर पर प्रॉपर्टी खरीदने वाले ब्रोकर को जरिया बनाने से परहेज करते हैं ताकि ब्रोकरेज के पैसे बच जाएं। खरीदारों को लेन-देन के सभी चैनल को आजमाना चाहिए जैसे ब्रोकर, ऑनलाइन सूचना के स्रोत आदि। इसके अलावा, अगर संभव हो तो उन्हें सीधे-सीधे मालिक से भी संपर्क करना चाहिए। इससे सभी संभावनाओं का आकलन करते हुए अच्छे सौदे को अंजाम देने में मदद मिलेगी। हो सकता है कि एक अच्छा ब्रोकर इसमें काफी मददगार साबित हो।

प्रॉपर्टी में दिखाएं अपनी दिलचस्पी
आम तौर पर लोगों में यह धारणा होती है कि अगर वह किसी प्रॉपर्टी में अपनी दिलचस्पी दिखाएंगे तो वह ज्यादा मोलभाव नहीं कर पाएंगे। यह धारणा गलत है। वास्तव में, खरीदारों को प्रॉपर्टी में पूरी दिलचस्पी दिखानी चाहिए ताकि डेवलपर उन्हें बेहतर डील देने के बारे में सोच सके। डेवलपर वास्तविक खरीदारों को सूचनाएं इकट्ठा करने वालों की तुलना में बिल्कुल भिन्न तरीके से पेश आते हैं। मोलभाव करने की जगह पर खरीदारों को चेक बुक लेकर जाना चाहिए ताकि डेवलपर को लगे कि वह टोकन अमाउंट देने को तैयार है और बेहतर सौदे को अंजाम दिया जा सके। अगर सौदा पसंद आता है तो ठीक नहीं तो विकल्प तो खुले ही हैं, लेकिन कहीं भी पूरी तैयारी के साथ ही जाना चाहिए।

सही वक्त का इंतजार करना ठीक नहीं
बीते समय में कई खरीदार प्रॉपर्टी बाजार के सही समय के निर्धारण के मामले में फंस चुके हैं। प्रॉपर्टी मार्केट हो या शेयर बाजार यहां खरीदारी के सही समय का निर्धारण करना कठिन है। वर्तमान में बिल्डर वास्तविक ग्राहकों को अच्छी डील की पेशकश कर रहे हैं। मौजूदा बाजार परिस्थितियों का सही ज्ञान और मोलभाव करने की दक्षता की बदौलत ग्राहक मौजूदा अवसर का लाभ उठा सकते हैं और अच्छी कीमत पर अपने घर के सपने को साकार कर सकते हैं। संभव है कि कुछ शहरों में कीमतों में कुछ गिरावट देखने को मिले लेकिन कोई भी व्यक्ति इसकी सही-सही भविष्यवाणी नहीं कर सकता है।

Published On:
Apr, 08 2018 09:03 PM IST