तीन क्लीनिक पर छापामार कार्रवाई, सील

By: Sanjay Singh Tomar

Updated On:
25 Aug 2019, 10:30:00 AM IST

  • पैथी बदल कर इलाज करने वाले क्लीनिक संचालक के खिलाफ पंचनामा

     

दतिया। शहर में ही कई क्लीनिक बिना पंजीयन की संचालित हो रही हैं और कई डॉक्टर पैथी बदल कर इलाज कर रहे हैं। शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की टीम की संयुक्त कार्यवाही में यह बात सामने आई। पैथी बदल कर इलाज करने वाले क्लीनिक संचालक के खिलाफ पंचनामा बनाने के अलावा बिना रजिस्ट्रेशन संचालित होने वाली क्लीनिकों को सील किया गया है।

शहर में बिना रजिस्टे्रशन और पैथी बदल कर इलाज करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ शुक्रवार को औचक कार्यवाही की गई। औचक कार्यवाही दोपहर के समय की गई। कार्यवाही की जानकारी जैसे ही अन्य क्लीनिक संचालकों को मिली तो हडक़ंप मच गया। शुक्रवार को चार क्लीनिक संचालकों के खिलाफ कार्यवाही की गई। इनमें से तीन क्लीनिकों को तत्काल सील किया गया। कार्यवाही में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ पी के शर्मा, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ डी के सोनी, क्लीनिक एवं नर्सिंग होम शाखा प्रभारी आशीष खरे, स्टोर प्रभारी आर एस नरवरिया तथा प्रशासन की ओर से तहसीलदार नितिन भार्गव एवं पटवारी सलीम खान शामिल रहे।

मरीजों को चढ़ती मिली ड्रिप
कार्यवाही की शुरूआत दोपहर करीब एक बजे नगरपालिका कॉम्प्लेक्स स्थित डॉ. ताराचंद्र क्लीनिक से की गई। यह क्लीनिक डॉ कमलेश गुप्ता के नाम से रजिस्टर्ड है। रजिस्ट्रेशन के अनुसार क्लीनिक पर आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज किया जाना चाहिए लेकिन टीम यहां पहुंची तो मरीजों का इलाज एलोपैथिक पद्धति से होता मिला। क्लीनिक पर चार - पांच मरीज भी लेटे थे जिन्हें ड्रिप चढ़ाईजा रही थी। पैथी बदल कर इलाज पाए जाने पर मौके पर पंचनामा बनाने की कार्यवाही की गई। इसके बाद टीम बस स्टैंड के पास स्थित साधना क्लीनिक पर पहुंची। यहां डॉक्टर तो मौजूद नहीं था लेकिन कर्मचारी मौजूद था। पड़ताल की गई तो पता चला कि क्लीनिक रजिस्टर्डनहीं है। क्लीनिक पर जिन रोगों का इलाज किया जाता है उसके पंपलेट, दवाईयां और इंजेक्शन मिले। क्लीनिक को तत्काल सील किया गया। तीसरी कार्यवाही अनामय क्लीनिक पर की गई। यह क्लीनिक उनाव रोड पर स्थित है। इस क्लीनिक पर डॉ एस के चौधरी इलाज करते पाए गए।

टीम ने पूछताछ की तो पता चला कि डॉ होम्योपैथी के हैं लेकिन क्लीनिक अंग्रेजी दवाईयां, सीरप और इंजेक्शन मिले। रजिस्ट्रेशन के बारे में पता करने पर क्लीनिक का रजिस्ट्रेशन नहीं पाया गया। क्लीनिक को सील करने की कार्यवाही की गई। चौथी कार्यवाही बुंदेला कॉलोनी स्थित जय हॉस्पिटल के विरुद्ध पाईगई।

यहां टीम को मिले डॉ अरविंद दांगी ने बताया कि वह अभी हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन नहीं करवा पाए हैं। टीम को हॉस्पिटल में एक महिला मिली जिसे डीएनएस चढ़ाया जा रहा था। मौके पर जांच के लिए खून के सैंपल रखे पाए गए। हॉस्पिटल में एक्सरे मशीन भी है जिसका रजिस्टे्रशन डॉक्टर नहीं दिखा सका। इस हॉस्पिटल को भी सील किया गया।

Updated On:
25 Aug 2019, 10:30:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।