सरकार और कर्मचारियों के बीच फिर ठनी, 16 को थमेंगे रोडवेज के पहिये... आखिर क्यों लिया ये फैसला पढ़िए ये खबर

By: Suraksha Rajora

Published On:
Sep, 12 2018 05:45 PM IST

  • श्रमिक संगठन एक बार फिर आन्दोलन की राह पर अर्धनग्न प्रदर्शन कर जताया आक्रोश-

बूंदी. सरकार की वादाखिलाफी के विरोध में श्रमिक संगठन एक बार फिर आन्दोलन की राह पर है। बुधवार को कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोलते हुए अर्धनग्न प्रदर्शन किया और मुख्यमंत्री के पुतले को लेकर बस स्टेंड परिसर के बाहर जमकर नारेबाजी की।

 

Read More: राजपूत सिर कटाने में पीछे नहीं रहे, अब सिर गिनाने में नहीं रुकेंगे - कालवी

 

राजस्थान के श्रमिक संगठनो एटक, सीटू इंटक आरएसआरटीसी रियार्ड कर्मचारी बीजेएमस राजस्थान के सेवानिवृत्त कर्मचारी कल्याण समिति के संयुक्त मोर्चे के आव्हान पर प्रदेशभर में सरकार के खिलाफ कर्मचारियों का गुस्सा फुटा।

 

Read More: छात्र संघ चुनाव नतीजे 2018:छात्र संघ के दंगल में एबीवीपी का मगंल...

 

एटक सचिव अशोक सक्सेना ने बताया कि संयुक्त मोर्चा का 27 जुलाई को राज्य सरकार से हुए समझोते को लागू नही करने एवं रोडवेज द्वारा कर्मचारियों को 150 करोड़ रूपए देने का वादा किया था। 100करोड़ रूपए अभी तक भी नही दिए गए है, जिससे कर्मचारियों का बकाया पेमेंट नही हो पा रहा है।

 

Read More: अवैध पार्सल ले जाने की कलई खुलती देख कोटा रोडवेज डिपो का ड्राइवर आया बैकफुट पर...क्या है पूरा माजरा पढ़िए यह खबर

 

सातवां वेतन, आयोग लागु नही किया गया न ही नई बसे एवं नई नियुक्ति की प्रतिक्रिया पूरी नही की गई है। हर माह 45 करोड़ रूपए अनुदान राशि दने का वादा किया था उसमें से 25 करोड रूपए प्रतिमाह दिए जा रहें है। जिसके चलते रोडवेज कर्मचारियों में आका्रेश व्याप्त है।

 

हबीबखान ने बताया कि सरकार झुठे वादे करती है। प्रदेश भर में एक हजार बसे कंडम हो चुकी हैख् सरकार ने नई बसो का वादा किया था लेकिन अब तक इस मामले में कोई कार्रवाई नही हुई। यात्रियों की जान को खतरा रहता है।

 

कर्मचारियों ने सरकार की इन्ही वादाखिलाफी को लेकर आगामी 16सितम्बर को रोडवेज का ***** जाम करने का निर्णय लिया। इससे पहले 15 सितम्बर को संयुक्त मोर्चा एक दिवसीय धरने पर बेठेगा।

Published On:
Sep, 12 2018 05:45 PM IST