जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की हो सकती है 'छोटे सरकार' के घर से मिली AK-47, ये चीजें खा रही हैं मेल!

By: Muneshwar Kumar

Updated On:
17 Aug 2019, 02:56:55 PM IST

  • बिहार के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के घर से बरामद AK-47 के तार जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से जुड़ रहे।

भोपाल. बिहार के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के घर से AK-47 मिली है। साथ ही हैंड ग्रेनेड भी है। अब विधायक अनंत सिंह के घर से बरामद हथियारों के तार जबलरपुर से जुड़ने लगे हैं। बताया जा रहा है कि ये हथियार से जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी हुई हथियारों में से एक हो सकता है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है कि विधायक के घर मिली AK-47 भी एसेंबल किया हुआ है।

 

दरअसल, जबलपुर स्थित ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से 50 से ज्यादा AK-47 कुछ साल पहले चोरी हुई थी। इस बात की जानकारी भी न तो फैक्ट्री को लगी और न ही सुरक्षा एजेंसियों को। इस रैकेट से जुड़े लोग ऑर्डिनेंस फैक्ट्री AK-47 जैसे खतरनाक हथियार के पार्ट्स की चोरी करते और बाहर लाकर उसे एसेंबल करते थे। उसके बाद ट्रेन के जरिए बिहार और झारखंड के अपराधियों और नक्सलियों को सप्लाई करते थे।

MLA Anant Singh

 

ऐसे हुए खुलासा
लंबे समय से जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से हथियारों की चोरी हो रही थी। लेकिन ताजुब वाली बात थी कि इतने सुरक्षित प्रतिष्ठान से इतने बड़े पैमाने पर AK-47 के पार्ट्स कैसे चोरी हो गई। इसका खुलास अगस्त 2018 में होने के बाद सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप में मच गया। दरअसल, बिहार के मुंगेर जिले स्थित जमालपुर थाना क्षेत्र से तीन AK-47 के साथ एक हथियार तस्कर इमरान को गिरफ्तार किया गया। उससे पूछताछ के बाद अन्य दूसरे तस्करों की गिरफ्तारी हुई।

MLA Anant Singh

 

इन तस्करों की गिरफ्तारी के बाद एक कुएं से 20 से ज्यादा AK-47 की बरामदगी हुई। उसके बाद इस मामले की जांच अक्टूबर 2018 में एनआईए को सौंप दी। उसके बाद एनआईए ने इस मामले की जांच शुरू की। तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। इस खुलासे में जो बातें सामने आईं, वह चौंकाने वाले थे। बिहार में जो भी AK-47 से मिल रहे थे, वो जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी गई है।

MLA Anant Singh

 

2012 से चल रहा था कारोबार
दरअसल, हथियारों की तस्करी 2012 से ही चल रही थी। यह खुलासा गिरफ्तार तस्कर मोहम्मद इमरान, शमशेर आलम और उसकी बहन रिजवाना बेगम ने किया। ये सभी लोग 2012 से ही AK-47 जैसे खतरनाक हथियारों की तस्करी में जुटे थे। ये सभी लोग बिहार, यूपी और झारखंड के बाहुबली नेताओं, अपराधियों और नक्सलियों के पास हथियार सप्लाई करते थे।

MLA Anant Singh

 

सुरेंद्र ठाकुर करता था हथियारों की चोरी
जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से सुरेंद्र ठाकुर AK-47 और उसके पार्ट्स चोरी कर बाहर लाता था। सुरेंद्र हथियारों को पुरुषोतम को देता था। पुरुषोतम फिर उन हथियारों को बिहार के तस्करों तक पहुंचाता था। गिरफ्तार पुरुषोतम ने उस वक्त बताया था कि वह अपनी पत्नी के साथ ट्रेन से हथियार लेकर जमालपुर जाता था। पुरुषोतम भी जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री का ही कर्मचारी रहा है। और रिटायरमेंट के बाद वह इस काम में लगा हुआ था।

MLA Anant Singh

 

ज्यातादार हथियारों का पता नहीं
बिहार पुलिस और एनआईए अभी तक 22 ही AK-47 बरामद कर पाई है। लेकिन चालीस से ज्यादा हथियारों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। वो हथियार कहां और किसके पास हैं। तस्करों से जांच एजेंसियों को मिली जानकारी के अनुसार उनलोगों ने नक्सलियों को भी हथियारों की सप्लाई की है। ऐसे में नक्सलियों के पास से बरामद हथियार को बरामद करना पुलिस के लिए काफी मुश्किल हैं।

MLA Anant Singh

 

विधायक के घर से मिली AK-47 भी जबलपुर से
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस अधिकारी यह दावा कर रहे हैं, मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह के घर से मिली AK-47 जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी की गई है। क्योंकि यहां से गायब सारे हथियार एसेंबल ही थे। विधायक के घर से मिली AK-47 भी एसेंबल ही है। साथ ही उसके कुछ पार्ट्स भी खुले हुए हैं। ऐसे में जांच एजेंसियां उस हथियार की जांच करने में जुटी है। इस मामले में विधायक से पूछताछ भी हो सकती है कि ये हथियार उन्हें कहां से मिला।

MLA Anant Singh

 

नंबर से खुलेगा राज
वहीं, जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में जिस भी पार्ट्स का निर्माण होता है, उस पर एक नंबर अंकित होता है। विधायक के घर से मिली AK-47 के पार्ट्स पर भी नंबर अंकित हैं। ऐसे में हथियारों के नंबर मिलान के बाद यह पता चला जाएगा कि इसका निर्माण कब हुआ। उसके बाद जांच आगे बढ़ेगी। आर्मी के अफसर भी विधायक के घर जांच के लिए पहुंचे हैं। क्योंकि जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में आर्मी के लिए ही हथियार बनती है।

Updated On:
17 Aug 2019, 02:56:55 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।