पेरिस में छात्रों का प्रदर्शन हुआ उग्र, हुई 700 गिरफ्तारियां, पुलिस का खतरनाक रूप आया सामने

By: Shweta Singh

Published On:
Dec, 07 2018 07:45 PM IST

  • पेरिस से करीब 75 किलोमीटर दूर मोंटे-ला-जोली में पुलिस की ओर से छात्रों का उत्‍पीड़न किया जा रहा था, जिसका एक वीडियो वायरल हुआ। वीडियो में पुलिस का छात्रों की तरफ खतरनाक रूप देखने को मिल रहा है।

पेरिस। फ्रांस की राजधानी पेरिस में पिछले काफी समय से लोगों के आक्रोश देखने को मिल रहा है। पहले पेट्रोल-डीज़ल पर लगाए टैक्स को लेकर लोगों ने आंदोलन छेड़ा था, जिसके आगे सरकार झुकी भी और टैक्स वापस लिया। लेकिन इसके बाद से तो जैसे आंदोलन का सिलसिला जारी ही रहा है। इस क्रम में अब वहां के छात्र सड़क पर उतरे हैं। इनकी मांग शिक्षा सुधार से संबंधित है। हालांकि छात्रों के इस आंदोलन ने उग्र रूप ले लिया है। जिसके बाद पुलिस ने 153 छात्रों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस का भयानक वीडियो वायरल

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने आंदोलन भड़कने के बाद 153 छात्रों काे गिरफ्तार‍ किया है, जिसमें ज्यादातर की उम्र 12 साल के आसपास है। हालांकि छात्रों की इस तरह गिरफ्तारी करने के बाद फ्रांस सरकार की काफी आलोचना की जा रही है। इसका एक कारण है एक वीडियो। दरअसल पेरिस से करीब 75 किलोमीटर दूर मोंटे-ला-जोली में पुलिस की ओर से छात्रों का उत्‍पीड़न किया जा रहा था, जिसका एक वीडियो वायरल हुआ। वीडियो में पुलिस का छात्रों की तरफ खतरनाक रूप देखने को मिल रहा है।

वीडियो शूट करनेवाले का नहीं चल पाया नाम

वायरल हो रहे इस वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे पेरिस पुलिस ने इन छात्रों को अपने कब्जे में रखा है। छात्रों के हाथों को रस्सियों से बांधकर उनका मुंह दीवार की ओर देखने पर मजबूर किया गया है। पुलिस हाथ में डंडे लेकर उनपर नजर गड़ाए है। हालांकि ये वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, लेकिन फिर भी ये पता नहीं चल पाया है कि वीडियो शूट किसने किया था।

फ्रांस सरकार की बदनामी

दूसरी ओर वीडियो पर मिल रही प्रतिक्रिया पर फ्रांस सरकार को शर्मिंदगी का झेलना पड़ रही है। इसके चलते सरकार भी दबाव में है। हालांकि छात्र आंदोलन के संबंध में फ्रांस गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा गुरुवार को आंदोलन में शामिल हुए करीब 700 स्कूली छात्रों को गिरफ्तार किया गया। इसमें से 153 गिरफ्तारियां मोंटे-ला-जोली से हुई है। सरकार का दावा है कि इस आंदाेलन के चलते छात्रों की पढ़ाई-लिखाई चौपट हो चुकी है। बीते दिनों इस कारण 280 स्कूल बंद किए गए हैं, जबकि 45 स्‍कूलों में शिक्षा बाधित ही रही। दंगों के बीच ऐतिहासिक एफ‍िल टावर को भी बंद करना पड़ा है। साथ ही सरकार ने कई और म्यूजियम को भी बंद करने के आदेश दिए हैं।

काफी समय से चल रहा प्रदर्शन

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शनों के बाद फ्रांसीसी सरकार ने पेट्रोलियम टैक्स और कीमतों में बढ़ोतरी का फैसला टाल दिया है। इसके बाद वहां के किसानों ने भी महंगाई और कृषि संबंधित समस्याओं को लेकर एक प्रदर्शन छेड़ दिया था।

Published On:
Dec, 07 2018 07:45 PM IST