Varanasi Ayodhya Highway : खुशखबरी, बाबा भोलेनाथ की काशी व भगवान राम के अयोध्या के बीच फासला होगा कम

  • Varanasi Ayodhya Highway : 7000 करोड़ में बनेगा फोर लेन काशी - अयोध्या मार्ग, ढाई साल में होगा तौयार
वाराणसी. अब बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी और Bhagwan Ram  की जन्मभूमि अयोध्या सीधे सड़क मार्ग से जुड़ेगा, जिससे श्रद्धालुओं को बाबा Kashi Vishwanath  व भगवान राम का दर्शन कराना और आसान हो जायेगा। जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने बताया कि काशी व अयोध्या अब सीधे सड़क मार्ग से जुड़ेगा और इन दोनों धार्मिक शहरों का फासला अब कम होगा। उन्होंने बताया कि 7000 करोड़ लागत से लगभग 192 किमी लम्बी इस सड़क को फोर लेन का बनाया जायेगा। इस मार्ग पर जगह-जगह कुल चार रेलवे उपरिगामी और आधा दर्जन से अधिक फ्लाईओवर बनाये जाएंगे। इस सड़क का निर्माण कार्य राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) द्वारा विश्वस्तरीय मानक के अनुरूप ढाई वर्ष में पूरा करा लिया जायेगा।





डीएम योगेश्वर राम मिश्र ने Kashi - Ayodhya  मार्ग के एलाईंमेन्ट के संबंध में शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित जिला रायफल क्लब सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। उन्होंने इस मार्ग के निर्माण में भूमि अधिग्रहण में किसानों को उनके भूमि का उचित बाजार मूल्य दिलाने के लिए व्यवहारिक व लाभ पहुंचाने पर जोर दिया। उन्होंने अपर जिलाधिकारी के नेतृत्व में तहसीलदार व लोक निर्माण विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों की टीम बनाकर भूमि का मुआवजा धनराशि निर्धारण कराने का निर्देश दिया। डीएम ने इस महत्वपूर्ण परियोजना में अधिग्रहण किये जाने वाले भूमि के किसानों को उचित बाजार मूल्य दिलाने के लिए भारत सरकार को भी पत्र लिखने का भरोसा दिया। 






जिलाधिकारी ने बताया कि वाराणसी के भोजूबीर से निकलने वाला यह काशी-अयोध्या मार्ग निर्माणाधीन रिंग रोड के दादूपुर ग्राम के पास से निकलकर जौनपुर के केराकत, थाना गद्दी, शाहगंज होते हुए अयोध्या पहुंचेगी। इससे काशी-अयोध्या मार्ग सुगम होगा। उन्होंने बताया कि वाराणसी से अयोध्या तक अभी तक सीधा मार्ग नहीं रहा और लोगो को अलग-अलग मार्गों से होकर आवागमन करना पड़ता रहा। बताया कि काशी-अयोध्या मार्ग के निर्माण में वाराणसी का 21 किमी रास्ता व 36 ग्राम सभाएं प्रभावित होंगी। बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन के अलावा लोक निर्माण विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण आदि विभागों के अधिकारी प्रमुख उपस्थित रहे।