मानसून में त्वचा का ऐसे रखें खास-ख्याल, अपनाएं ये टिप्स, दमकती रहेगी आपकी स्किन

By: Sarweshwari Mishra

Updated On:
12 Jul 2019, 06:16:10 AM IST

  • मानसून में त्वचा को लेकर होती है ये परेशानियां

वाराणसी. भीषण गर्मी के बाद जब मानसून आता है तब सब पहली बारिश में भींगना चाहता है। हर कोई बारिश में भींगकर मजा लेना चाहता है। बारिश होने के कारण नमी बढ़ जाता है जो हमारी त्वचा पर भी गहरा प्रभाव डालता है। इस मौसम में त्वचा सम्बंधी रोग, संक्रमण और जलन आदि का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। इस दौरान हवा में मौजूद नमीं शरीर में मोश्चर के स्त्राव को बढ़ाती है। जिसकी वजह से बारिश में त्वचा और तेलीय हो जाती है। जिसकी वजह से त्वचा में विटामिन सी की कमी आ जाती है। इस समय में त्वचा में फंगस जैसी कई तरह की समस्या आ जाती है। जैसे चेहरे पर खुजली, चकते, दाद और चेहरा बेरंग हो जाता है। वहीं जिनकी तेलीय त्वचा होती है उनके चेहरे पर फोड़े फुंसी हो जाते हैं। हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहे हैं जिससे समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

 

Skin care tips in monsoon

मानसून में ऐसे करें अपनी त्वचा की सुरक्षा
मानसून के समय जब भी आपका चेहरा गीला हो तो सबसे पहले उसे टीशू पेपर या किसी साफ कॉटन से साफ करें। अगर रूखापन महसूस हो तो उसे मॉश्चराइजर लगा लें। चेहरे पर एक दिन में लगभग दो बार चेहरे पर आइस क्यूब रगड़ें। पैरों पर भी इसका असर ज्यादा देखने के मिलता है। इसलिए ये उपाय पैरों के लिए भी करें। ऐसा करने से चेहरे पर पसीना नहीं आता और नमीं की वजह से पिंपल्स नहीं आते। चेहरे को चमकदार और चिकना बनाए रखने के लिए यह जरूरी है कि त्वचा की सतह पर अत्यधिक तेल न रहे। इसके लिए घर पर बनाए पैक का प्रयोग करते रहें।

 

मानसून में आंखों में भी हो जाती है समस्या
मानसून के आने के साथ-साथ आंखों में भी कई तरह की परेशानियां बढ़ जाती है। यह मौसम सर्द-गर्म वाला होता है इसलिए आंखों में जलन की समस्या और खुजली बढ़ जाती है। इस दौरान हमारी आखें वाइरल संक्रमण का शिकार हो जाती है। कंजक्टिवाइटिस बरसात के दिनों में महामारी की तरह फैलता है। यह वाइरस, बैक्टिरिया और संक्रमण की वजह से होता है। यह ऐसा संक्रमण है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैलता है। इसके शिकार सबसे ज्यादा बच्चे होते हैं। इस दौरान हमें इससे बचने के लिए अपनी आखों का पूरा खयाल रखना चाहिए।


इससे बचने के लिए किसी भी संक्रमित व्यक्ति से हाथ ना मिलाएं और उनकी चीजों जैसे चश्मा, तौलिया, तकिया आदि से दूरी बनाए रखें। किसी दूसरे व्यक्ति का रूमाल तौलिये का इस्तेमाल ना करें। घर से बाहर निकलने पर धूप का चश्मा जरूर पहनना चाहिए। अपनी आखों में लगाने वाले मेकअप के समानों को किसी के साथ शेयर ना करें।

मानसून में न करें हरी सब्जियों का सेवन
मानसून में बीमारियों का भी खतरा अधिक हो जाता है। क्योंकि ऐसे में संक्रमण तेजी से बढ़ जाता है। इन दिनों हमें अपने खाने पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए। बरसात के दिनों में हमने देखा है कि हरी सब्जियों में कीड़े लग जाते हैं जो सब्जियों को खराब कर देते हैं। इसलिए हमेशा सब्जियों को अच्छी तरह साफ-सुथरा करके पकाएं। बल्कि ऐसे में हरी सब्जियां खाने से बचें। इन दिनों मसालेदार भोजन से बचना चाहिए। इस मौसम में फलों का सेवन अच्छा विकल्प है। इसलिए हमें फलों को ही प्राथमिकता देनी चाहिए। इन दिनों तीन रंगों के फलों को ज्यादातर खाएं क्योंकि इसमें शामिल पौष्टिक और एंटीऑक्सीडेंट तत्व न केवल शरीर में ऊर्जा संतुलन के लिए महत्वपूर्ण हैं, बल्कि शरीर से विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालकर हमारा संक्रमण से बचाव भी करते हैं। साथ ही हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाते हैं।

 

Skin care tips in monsoon

मानसून के समय सनस्क्रीन का करें इस्तेमाल
मानसून के समय नमीं में अधिकता के कारण त्वचा में झुर्रियां, बालों का बेजान होना आदि समस्याएं होती हैं। इसके लिए सबसे जरूरी उपाय यही है कि जब भी बादल छाएं या बारिश होने जैसा मौसम बने तब आप सनस्क्रीन का उपयोग जरूर करें। अक्सर लोग इस मौसम में सनस्क्रीन लगाना जरूरी नहीं समझते, लेकिन बारिश के मौसम में वाटरप्रूफ सनस्क्रीन लगाना बेहद जरूरी होता है। सामान्य त्वचा वालों को ज्यादा एसपीएफ वाला सनस्क्रीन इस्तेमाल करना चाहिए और तैलीय त्वचा वालों को मिनरल फिलरवाला सनस्क्रीन लगाना चाहिए। इसके साथ ही आप खुद को सूखा बनाए रखने का प्रयत्न करें।

 

Updated On:
12 Jul 2019, 06:16:10 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।