पुत्र की सलामती के लिए उपवास रखकर की पूजा

By: ayazuddin siddiqui

Updated On:
22 Aug 2019, 09:30:00 AM IST

  • हरछठ पर्व

उमरिया. पुत्र की दीर्घायु व उसकी सलामती के लिए बुधवार को महिलाओं ने व्रत रखकर विशेष पूजा अर्चना की। इस दिन सुबह से ही महिलाओं ने स्नान ध्यान कर पूजा अर्चना की तैयारी में जुट गई थी। सुबह से सतंजा यानी सात अनाजों का भुजेना तैयार किया। इसके बाद इसे चुकरिया में भरकर बांस के बर्तन यानी कुड़वारा में सजाया। जिले के मानपुर, चंदिया, पाली सहित ग्रामीण अंचलों में पुत्र की सलामती के लिए हरछठ पर महिलाओं द्वारा पूजा अर्चना की गई । इसी दिन श्री कृष्ण के बड़े भाई बलराम का जन्म हुआ था। उससे दो दिन पहले कृष्ण के बड़े भाई बलराम जी का जन्मोत्सव मनाया गया। जिसे हलषष्ठी.हरछठ के नाम से जाना जाता है। दोपहर के समय पूजा के लिये हरछ्ठ मिट्टी की बेदी बनाई गई। हरछठ में झरबेरीए कुश और पलास तीनों की एक.एक डालियां एक साथ बांधी गई।। जमीन को मिट्टी से लीपकर वहां पर चौक बनाया गया। उसके बाद कच्चे जनेउ का सूत हरछठ को पहनाया गया एवं फल आदि का प्रसाद चढ़ाने के बाद कथा सुनी गई।

Updated On:
22 Aug 2019, 09:30:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।