कलेक्टर को लिखा पत्र, कहा काम शुरु नहीं हुआ तो करेंगे चकाजाम

मामला नेशनल हाईवे 43 के निर्माण कार्य में हो रही देरी का

उमरिया. नेशनल हाईवे 43 के नव निर्माण मे लगी महीनो से रोक के कारण धूल से परेशान वार्डवासियों ने चेतावनी देते हुए जिला प्रशासन को पत्र लिखा है जिसमे कहा गया है कि अगर दो सप्ताह मे समस्या का समाधान नही किया गया तो हाईवे मे बैठकर वार्डवासी चक्काजाम करेगें। नेशनल हाईवे 43 के किनारे बसे नौगवां टोला व लालपुर वासियों ने संयुक्त रुप से लिखे पत्र मे कहा है कि एक वर्ष से हाईवे के नव निर्माण मे एक के बाद एक बाधा आ रही है। जिसका निराकरण कर पाने मे जिला प्रशासन असक्षम है। हाईवे 43 के निर्माण मे चंद लोगो की आपत्ति के कारण दो वार्डो के सैकड़ो रहवासी हर दिन धूल मे अपना जीवन व्यतीत कर रहे है। एक ओर जहां धूल के गुब्बारे तो दूसरी ओर हर पल वाहनों के अनियंत्रित होने का डर लगा रहता है। बताया गया कि हाल ही मे एमपीआरडीसी के निर्देश पर ठेकेदार ने पुन: कार्य प्रारंभ किया था मगर नौगवां टोला निवासी किसी व्यक्ति के द्वारा काम रुकवा दिया गया है। बताया जा रहा है कि हाईवे 43 निर्माण मे जानबूझ कर स्टे लगाया जा रहा है जिससे जिला प्रशासन और विभाग अनायाश ही परेशानी झेल रहे है। वहीं विभागीय सूत्रों की माने तो ठेकेदार द्वारा सीसी सड़क का निर्माण पूर्व से बनी सड़क के दायरे और पचासे के अंदर किया जा रहा है। बाबजूद इसके निर्माण कार्य मे रोक लगाई गई है।
उठाएं सख्त कदम
बीते दिन दो वार्डो के सैकड़ो रहवासियों द्वारा लिखित मे दिये गये पत्र पर जिला प्रशासन कार्यवाही करते हुए सख्त कदम उठाए, जिससे करीब एक साल से धूल और जान जोखिम मे डालने का जिम्मा उठाने वाले रहवासी निर्माण पूर्ण होने पर राहत की सांस ले सके। वहीं लोगो का कहना है कि जिन भूमि स्वामियों द्वारा आपत्ति लगाई जा रही है उनकी भूमि की नाप जोख करते हुए समस्या का निराकरण कराया जाए। स्टे कर्ता की भूमि न हो तो जिला प्रशासन उसके साथ सख्ती से पेश आयें। नेशनल हाईवे निर्माण के शुरुआती दौर मे ही लालपुर और खलेसर तिराहे के बीच महीनों से स्टे का दौर चल रहा है, जिसके कारण लोग बेहद परेशान है। बताया जा रहा है कि जगह-जगह सड़क खोद दी गई है। जिस वजह से हमेशा बड़े हादसे की आशंका बनी रहती है।

Ramashankar mishra
और पढ़े
Web Title: Letter written collector,work does not start then we will do a check
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।