बडनग़र के वीडियोग्राफर को राजस्थान बुलाकर कर लिया अपहरण, मांगी एक लाख रुपए की फिरौती

By: Mukesh Malavat

Published On:
Jun, 19 2019 08:02 AM IST

  • पुलिस ने 24 घंटे के भीतर पांच अपहरणकर्ताओं को किया गिरफ्तार

बडनग़र. नगर के सांवरिया कॉलोनी में रहने वाले एक वीडियोग्राफर को रविवार को राजस्थान बुलाकर पांच लोगों ने अपहरण कर लिया। इसके बाद युवक के परिजनों से एक लाख रुपए की फिरौती मांगी। रुपए नहीं देने पर युवक को जान से मारने की बात कही। पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए 24 घंटे में राजस्थान से बदमाशों से अपहृत युवक को मुक्त कराते हुए पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर फिरौती की राशि बरामद करने में सफलता पाई।
एसडीओपी शेरसिंह भूरिया, टीआइ दिनेश प्रजापति एवं इंगोरिया टीआइ प्रकाश वास्कले ने मीडिया को बताया कि 16 जून को सांवरिया कॉलोनी निवासी गौरव (20) पिता रमेश जोशी की गुमशुदगी को भाई पारस जोशी ने दर्ज करवाई थी। सोमवार को गौरव ने भाई पारस को मोबाइल लगाकर बताया कि कुछ बदमाशों ने राजस्थान के सालमगढ़ में एक झोपड़ी में मुझे बंधक बना कर रखा है और मारपीट कर रहे हैं। अपहरणकर्ता फिरौती में एक लाख रुपए की मांग कर रहे हैं। रुपए नहीं देने पर मुझे मार देंगे। पारस ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने त्वरित विशेष टीम बनाई और फरियादी के साथ फिरौती की राशि लेकर सालमगढ़ राजस्थान पहुंची। पुलिस सिविल ड्रेस में अपहरणकर्ता द्वारा बताए स्थान पर पहुंची। वहां जैसे ही बदमाशों ने राशि ली तो घेराबंदी कर पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इनमें वासुदेव (23) पिता पीरूलाल मीणा निवासी बड़ी साखथली फंटा सालमगढ़, जगदीश (36) पिता नंदलाल मीणा निवासी सालमगढ़, नानूराम (20) पिता सउजी निवासी डुगलवाणी सालमगढ़, रामलाल (20) पिता शंकरलाल निवासी सरदारपुरा सालमगढ़ एवं देवीलाल (30) पिता गौतम मीणा निवासी डुगलावाणी सालमगढ़ राजस्थान को गिरफ्तार किया और गौरव को मुक्त करवाया। इनसे राशि 90 हजार रुपए भी जब्त किए। पुलिस ने आरोपियों के विरुद्ध भादंवि की धारा 364 क, 368, 365, 342, 346, 388, 389 में प्रकरण दर्ज कर मंगलवार को न्यायालय में पेश किया।
यह है घटनाक्रम
गौरव जोशी वीडियोग्राफी का कार्य करता है। तीन माह पूर्व वह शादी में वीडियोग्राफी करके ग्राम सालमगढ़ राजस्थान गया था। उसकी मुलाकात आरोपी जगदीश की लडक़ी से हो गई थी और गौरव से फोन पर बातचीत होने लगी। इसकी जानकारी जगदीश व उसके परिवार को हो गई। जगदीश ने साथी वासुदेव के साथ लडक़ी के फोन से धमकी देकर गौरव को सालमगढ़ बुलाया और गौरव के वहां पहुंचते ही बाइक पर जबर्दस्ती बैठाकर झोपड़ी में ले गए और मारपीट की। आरोपियों ने गौरव को लडक़ी से बलात्कार की रिपोर्ट डलवाने एवं जान से मारने की धमकी देकर परिजनों से एक लाख रुपए की फिरौती मांगी।
इनकी रही भूमिका
अपहरणकर्ताओं को पकडऩे में टीआइ दिनेश प्रजापति, एसआइ हेमंतसिंह जादौन, एएसआइ एमएस जगेत, पीएसआइ जितेंद्र पाटीदार, चांदनी पाटीदार, एएसआइ जीएस पटेल, प्रआर बाबूलाल, आरक्षक महिपाल हाड़ा, रूपेश पर्ले, रवींद्र, महेंद्र, गनी मोहम्मद, भरत की भूमिका रही।
पुलिस वाहन पर हमला
जब बडनग़र पुलिस ने आरोपियों को कस्बा दलोट से गिरफ्तार किया तो उनके परिजनों ने मप्र पुलिस के वाहन पर पथराव किया व पुलिस के साथ झड़प होने की थाना हाजा पर सूचना मिली। इस पर तुरंत थाना हाजा से शिशुपाल सिंह सउनि बल के साथ पहुंचे और सहायता दी। सभी लोगों को समझाइश देकर आरोपीगण को लेकर थाने आए। तभी अचानक आरोपीगण के वारिसान व गांव वाले 100 के करीब आदमी तथा लगभग 50 औरते थाना परिसर में प्रवेश कर हल्ला करने लगे की मप्र पुलिस वाले हमारे आदमियों को कैसे ले जाएंगे। हम किसी भी कीमत पर नहीं ले जाने देंगे। इस पर एसएचओ ने समझाइश की तथा वस्तुस्थिति से अवगत करवाया फिर भी नहीं मान जिद पर अड़े रहे आरोपीगण को मप्र पुलिस द्वारा नहीं ले जाने देंगे। जिस पर थानाधिकारी ने एसपी प्रतापगढ़ से बात कर अतिरिक्त बल भेजने की बात कही। इस पर ओमप्रकाश गौतम वृताधिकारी वृत पिपलखुट, थानाधिकारी थाना अरनोद, थानाधिकारी थाना पिपलखुट, थानाधिकारी थाना घंटाली मय बल के पहुंचे और मप्र पुलिस को मय अपहृत गौरव जोशी व आरोपीगण को सुरक्षा में मप्र की सीमा में भेजा।

Published On:
Jun, 19 2019 08:02 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।