अकेले नर्सिंग स्टाफ केभरोसे बाल चिकित्सालय के वार्ड

By: bhuvanesh pandya

Published On:
Jun, 12 2019 09:17 AM IST

  • दिन में गायब रहते है वार्डों से रेजिडेंट-

भुवनेश पण्ड्या

उदयपुर. एमबी के बाल चिकित्सालय में दोपहर के वक्त अधिकांश वार्डों से रेजिडेंट्स गायब रहते हैं, जबकि नियमानुसार एक रेजिडेंट्स की ड्यूटी पूरी होने के बाद किसी ना किसी का वहां होना जरूरी होता है, लेकिन यहां हाल बड़े अजीब हैं। पत्रिका टीम ने शुक्रवार को बाल चिकित्सालय का दौरा किया तो सामने आया कि यहां पूरे वार्ड केवल नर्सिंग स्टाफ के भरोसे हैं, अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बाल चिकित्सालय के सबसे बड़े वार्ड में जहां 60 पंलग लगे थे, वहां दोपहर में केवल तीन नर्सिंगकर्मी कार्यरत थे।

-----

मेज पर बिखरी दवाइयां व कागज वार्ड 301 में पत्रिका टीम पहुंची तो देखा कि रेजिडेंट्स की मेज पर मरीजों के टिकिट्स और दवाइयां बिखरी पड़ी थी। पूछने पर नर्सिंग स्टाफ ने केवल इतना बताया कि अभी गए है, कुछ देर में आ जाएंगे। इसी प्रकार एक अन्य वार्ड में ना कोई रेजिडे्ंटस मिले और ना ही कोई नर्सिंगकर्मी।

-----

वार्डो में नियमित नहीं बदलती चादरें विभिन्न वार्डों में टीम ने कुछ मरीजों से बातचीत की तो पता चला कि उनके बिस्तरों की चादरें नहीं बदली गई हैं..

----

-ऐसा होना नहीं चाहिए, इसका कारण है कि राउण्ड द क्लॉक नियमित ड्यूटी सबकी रहती है। यदि लंच के समय कोई कुछ देर के लिए गया हो तो पूरी जानकारी लेते हैं, हालांकि रेजिडे्ंटस को रहना ही होता है।

डॉक्टर आरएल सुमन, विभागाध्यक्ष बाल चिकित्सालय उदयपुर

Published On:
Jun, 12 2019 09:17 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।