जनसंघ के वरिष्ठ नेता, उदयपुर के पूर्व सांसद भानु कुमार शास्त्री का निधन, अंतिम यात्रा 10:30 बजे

By: Madhulika Singh

Published On:
Feb, 24 2018 08:44 AM IST

  • उदयपुर- जनसंघ के वरिष्ठ नेता उदयपुर के पूर्व सांसद भानु कुमार शास्त्रीे का शनिवार तड़के उदयपुर में निधन हो गया.

उदयपुर- जनसंघ के वरिष्ठ नेता उदयपुर के पूर्व सांसद भानु कुमार शास्त्रीे का शनिवार तड़के उदयपुर में निधन हो गया, पिछले दिनों से वे बीमार चल रहे थे। उषा शास्त्री राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के चेयरमैन रहे।उनकी अंतिम यात्रा प्रातः 10:30 बजे उनके निवास स्थान शिवाजी नगर से मोक्ष धाम अशोकनगर के लिए ले जाई जाएगी

 

 

शास्त्री का जन्म 29 अक्टूबर 1925 को सिंध प्रदेश के हैदराबाद (जो अब पाकिस्तान में है) में प्रसिद्ध ज्योतिषी पं. गिरिधर लाल शर्मा के घर हुआ। भारत-पाक विभाजन की त्रासदी के बाद वे उदयपुर आए और इसी को अपनी कर्मभूमि बनाया।कर्मभूमि बनाया।


खासतौर से मेवाड़ अंचल की राजनीति में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। शास्त्री को सादा जीवन और उच्च विचार रखने वाले नेताओं में शुमार किया जाता है। जीवन भर इसी सादगी के साथ रहकर शुचिता का पर्याय बन उन्होंने जनजाति क्षेत्र में शिक्षा व राजनीतिक जागरूकता का कार्य किया।

 

शास्त्री ने जिस समय मेवाड में भारतीय जनसंघ का झंडा उठाया तब राजनीति में कांग्रेस का प्रभुत्व था। तब दल के एक वरिष्ठतम नेता ने शास्त्री को कहा- ‘शास्त्री जी तुम्हारी पार्टी इस जन्म में तो सरकार में नहीं आ सकती, आप कांग्रेस में आ जाओ, राज करोगे।’ तब शास्त्री ने दृढतापूर्वक कहा- ‘मैं भारतीय संस्कृति का उपत्सक हूं, मैं पुनर्जन्म में विश्वास करता हूं, इस जन्म में नहीं हुआ तो फिर जन्म लेकर अपना संकल्प पूर्ण करूंगा।

 

 

bhanu ji

 

उनका राजनीतिक जीवन लम्बा रहा। वे पूर्व सांसद व काबिना मंत्री के दर्जे के साथ निगम एवम बोर्डों के अध्यक्ष भी रहे। उन्हें संघ के साधारण स्वयंसेवक से लेकर संसद तक की दीर्घ यात्रा में पं. दीनदयाल उपाध्यक्ष, अटलबिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी , भैरोसिंह शेखावत, जगन्नाथराव जोशी, सुन्दरसिंह भण्डारी, संघ के सरसंघ चालक मा.स. गोलवलकर (गुरूजी), बाला साहेब, देवरस, एकनाथ रानाडे व माधवराव मूले जैसे नायकों के साथ विभिन्न पहलुओं पर विचार विमर्श व सहचर्य का सौभाग्य प्राप्त रहा।

 

 

Published On:
Feb, 24 2018 08:44 AM IST