उदयपुर के इस पशु चिकित्सालय में चिकित्सा टीम द्वारा मादा अश्वोंं की सफल जटिल शल्य चिकित्सा

By: Madhulika Singh

Updated On:
01 Mar 2019, 04:06:48 PM IST

  • चिकित्सकोंं द्वारा पहली सफलतापूर्वक जटिल शल्य चिकित्सा करने पर पशुपालकोंं में हर्ष

हेमन्त गगन आमेटा/ भटेवर. पशु चिकित्सा एवं पशुविज्ञान महाविद्यालय नवानिया उदयपुर में चिकित्सा टीम द्वारा दो मादा अश्वों के गूदा-योनि मार्ग फटने से गंभीर रूप से घायल होने पर सफल शल्य चिकित्सा की गई। नवानिया स्थित पशुचिकित्सालय में पिछले 3 सप्ताह से इन मादा अश्वोंं का इलाज चल रहा था । इन दोनों मादा पशुओं की सफलतापूर्वक शल्य चिकित्सा की गई। नवानिया महाविद्यालय के वेटेेरनरी क्लीनिकल कॉमपलेक्स के विभागाध्यक्ष डॉ एस के शर्मा ने बताया कि कॉलेज के मादा प्रजनन विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ दिनेश जाम जिनको अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अश्व की प्रजनन संबंधी बीमारियों का अनुभव प्राप्त है। उन्होंने इन दोनों दोनों अश्वोंं की शल्य चिकित्सा मादा प्रजनन विभाग के डॉ सुरेंद्र सिंह निरवाण तथा शल्य चिकित्सा विभाग के डॉ राकेश पूनिया के नेतृत्व में सफलतापूर्वक शल्य चिकि‍त्सा की गई। शर्मा ने बताया कि उदयपुर संभाग के नवानिया महाविद्यालय चिकित्सालय मेंं चिकित्सा टीम द्वारा पहली बार इस तरह की जटि‍ल सफलातापूर्वक शल्य चिकित्सा करने पर पशुपालकोंं में हर्ष है। जटि‍ल शल्य चिकित्सा का सफलतापूर्वक होने से मादा अश्व के मालिक मांगू सिंह कांकरोली तथा राशिद खान भींंडर ने कॉलेज प्रशासन की शल्य चिकित्सा टीम को मिठाई खिलाकर धन्यवाद ज्ञापित किया । शर्मा ने बताया कि इस प्रकार के अश्व पशु संबंधित जटिल समस्या के लिए उदयपुर संभाग स्तर पर नवानिया महाविद्यालय में परामर्श लेकर अश्व मालिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं इस प्रकार की जटिल शल्य चिकित्सा उदयपुर संभाग स्तर पर इस महाविद्यालय में होने के कारण संभव हो सकी। महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ आर. के धूूडिया ने पूरी शल्य चिकित्सा टीम को बधाई दी।

Updated On:
01 Mar 2019, 04:06:48 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।