उदयपुर में निरीक्षण के खिलाफ में उतरे शिक्षा विभाग कार्मिक, आंदोलन को दबाने का लगाया आरोप

By: Sushil Kumar Singh Chauhan

Published On:
Sep, 12 2018 01:28 PM IST

  • www.patrika.com/rajasthan-news

उदयपुर. स्कूली शिक्षा विभाग के कार्यालयों में जारी पुनर्गठन के तहत 3 हजार मंत्रालयिक एवं सहायक कार्मिकों के पद समाप्ति का विरोध मंगलवार को उस समय और गहरा गया, जब आंदोलन को दबाने के लिए विभाग स्तर पर विभागीय कार्यालयों में औचक निरीक्षण की पहल हुई। कार्मिकों ने आंदोलन को दबाने का आरोप लगाते हुए इसे प्रदेश सरकार की सोची समझी साजिश करार दिया। विरोध में कार्यालय छोड़कर आंदोलन कर रहे कार्मिकों ने विभागीय स्तर पर जारी निरीक्षण को लेकर नाराजगी जताई और विरोध दर्ज कराते हुए वाहन रैली निकाली। कर्मचारी तिराहे से रवाना हुई रैली कर्मचारी शिक्षा विभागीय कर्मचारी समन्वय समिति अध्यक्ष अनिल पालीवाल के नेतृत्व में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक कार्यालय पहुंची, जहां नारेबाजी कर जोरदार विरोध प्रदर्शन किया गया।


आंदोलन दबाने की साजिश
समन्वय समिति पदाधिकारियों का आरोप है कि विभागीय पदों की समाप्ति को लेकर जारी आंदोलन को कुचलने के लिए सरकारी स्तर पर सोची समझी साजिश के तहत निरीक्षण को दिशा दी जा रही है। ऐसा कर कार्मिकों को प्रताडि़त किया जा रहा है। समिति पदाधिकारियों ने चेताया कि उनकी मांगों पर गौर करने की बजाए उनके आंदोलन को दबाने के प्रयास किए गए तो आंदोलन और उग्र होगा।

 

READ MORE : खाकी की सख्ती पर बोले छात्र-'अंकल इससे बढि़या तो आप चुनाव ही मत करवाते'


फिर पहुंचे भाजपा कार्यालय
विरोध प्रदर्शन के बाद कार्मिकों की रैली ने भाजपा जिला कार्यालय की ओर रूख किया, जहां पर शहर भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश भट्ट को मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। बताया कि उदयपुर के कार्यालयों में पूर्व में मंत्रालयिक एवं सहायक कार्मिकों के 134 पद स्वीकृत थे। वहीं 75 फीसदी पद समाप्त करते हुए कार्यालयों में केवल 36 पद ही स्वीकृत रखे गए हैं। इससे कार्य व्यवस्था बिगडऩे का संकट बढ़ गया है।


इनकी रही उपस्थिति
प्रदर्शन करने वालों में समन्वय समिति के अध्यक्ष पालीवाल, राजस्थान राज्य कर्मचारी महासंघ (भामस) के प्रदेश उपाध्यक्ष कमल प्रकाश, गोपाल वर्मा, हेमन्त सोनी, अभिषेक जैन, प्रदीप दशोत्तर, किशन दास, प्रेम गौड, नरेन्द्र औदिच्य, कमल पालीवाल, प्रदीप औदिच्य, मनीष छाजेड एवं अन्य कर्मचारी नेता मौजूद थे।

Published On:
Sep, 12 2018 01:28 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।