कहीं आग तबाह न कर दे गुलाबबाग को ! यहां पत्तियों में लगाई आग ने ल‍िया ऐसा रूप क‍ि बुलानी पड़ी दमकल

कहीं आग तबाह न कर दे गुलाबबाग को !  यहां पत्तियों में लगाई आग ने ल‍िया ऐसा रूप क‍ि बुलानी पड़ी दमकल

धीरेंद्र जोशी/ उदयपुर . गुलाबबाग में पत्तों को एकत्रित कर दो दिन से आग लगाई जा रही है। मंगलवार को आग इतनी बढ़ गई कि उसे बुझाने के लिए दमकल को बुलाना पड़ा। धुएं एवं आग से बाग में बसेरा डाले पक्षियों के साथ ही भ्रमण पर आने वाले शहरवासियों को भी परेशानी हो रही है। शुद्ध हवा और पर्यावरण की चाह में गुलाबबाग में सुबह और शाम को बड़ी संख्या में शहरवासी पहुंचते हैं, लेकिन गत दो दिन से शाम को समोर बाग वाले छोर पर पत्तियों को एकत्रित कर आग लगाई जा रही है। मंगलवार शाम को सगसजी मंदिर के पीछे लगाई गई आग इतनी फैल गई कि उसे बुझाने के लिए दो दमकल तक बुलानी पड़ी। इसे नजरअंदाज कर बुधवार को वेलफेयर सेंटर के पास पत्तियां एकत्रित कर आग लगा दी गई।
लोगों का कहना है कि गुलाबबाग में सफाई कर्मी पत्तियों को एकत्रित कर जला रहे हैं, लेकिन इसमें सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा जा रहा। बाग में सभी जगह सूखी पत्तियां बिखरी पड़ी है। एक चिंगारी भी बड़ी आग का रूप ले सकती है। गत दो दिन से लगी आग से कई पेड़ भी झुलस गए हैं और पक्षियों को भी परेशानी हो रही है।


गुलाबबाग के बाहर से हटाए ठेले
उदयपुर. गुलाबबाग के मुख्य से कालाजी गोराजी रोड की तरफ दीवार के सहारे लगे ठेलों को बुधवार को नगर निगम ने हटा दिया। यहां अब जालियां लगाई जाएगी। अंदर की तरफ बड़े गमले शोभा बढ़ाएंगे। दीवारों पर पेन्टिंग भी की जा रही है। इधर, ठेले हटाने की कार्रवाई का ठेला व्यवसासियों ने विरोध किया है। निगम ने ठेला संचालकों को ग्रीन व्यू होटल वाली गली और पीडब्ल्यूडी की गली में जगह दी है। सीटू जिलाध्यक्ष राजेश सिंघवी ने बताया कि निगम की ओर से टाऊन वेंडिंग पॉलिसी को लागू करने के नाम पर सुखाडिय़ा सर्किल, टाउनहॉल, गुलाब बाग के बाहर ठेला व्यवसाइयों को खदेड़ दिया, जिससे उनको नुकसान उठाना पड़ा।

READ SOURCE