15 वार्ड, 40 सफाई कर्मचारी, फिर भी गंदगी से अटे नाले-नाली

By: Pawan Kumar Sharma

Updated On:
12 Jun 2019, 07:43:37 PM IST

  • कस्बे के सभी 15 वार्डों तथा मुख्य मार्गों के आस-पास काफी मात्रा में कचरे के ढेर पड़े है।

     

उनियारा. कस्बे के पालिका प्रशासन की अनदेखी के चलते कस्बे में गंदगी का आलम बना हुआ है। वहीं स्वच्छ भारत मिशन योजना भी लचर साबित हो रही है।

 

कस्बे के सभी 15 वार्डों तथा मुख्य मार्गों के आस-पास काफी मात्रा में कचरे के ढेर पड़े है। छोटे बड़े नाली, नाले प्लास्टिक कचरे एवं कीचड़ से अटे होने के कारण कचरा सडक़ों पर आ जाता है।

 

वहीं गंदे पानी का बहाव अवरुद्ध होने से पानी जमा रहता है। नियमानुसार बारिश शुरू होने से पूर्व स्थानीय निकायों को अपने क्षेत्र के नाली, नालों की सफाई करवा दी जानी चाहिए, जिससे कि जल भराव नही हो सके, लेकिन पालिका प्रशासन द्वारा अभी तक नालों की सफाई शुरू नहीं करवाई गई है।


गौरतलब है कि पालिका क्षेत्र में कुल 15 वार्ड है। जबकि स्थाई रूप से 40 पालिका कर्मचारी नियुक्त है। यदि इनमें से 2-3 कर्मचारी छुट्टी पर भी हो तब भी प्रत्येक वार्ड में 2-2 सफाई कर्मचारी लगाए जा सकते है।

 

पालिका के पास 2 कचरा संग्रहण वाहन, एक ट्रैक्टर-ट्रॉली तथा लगभग 3 दर्जन कचरा उठाने के लिए व्हील बेरोज (हाथ गाडी) है। साथ ही झाडू, फावडे आदि सभी प्रकार के संसाधन मौजूद है। इसके बावजूद गंदगी एवं कचरे के ढेर लगे होना पालिका प्रशासन की व्यवस्था पर सवाल खड़े करता है।

 

कस्बे के नाली, नालों की वर्षाकाल पूर्व सफाई करवाने की निविदाएं हो चुकी है। ठेकेदार को कार्य शुरू करने के आदेश दिए जा चुके है। ठेकेदार पर कार्य शुरू करने के लिए पुन: दबाव डाला जाएगा। साथ ही स्वास्थ्य निरीक्षक को भी सफाई व्यवस्था में नियुक्त सफाई कर्मियों के पर्याप्त कार्य करवाने के लिए निर्देश दिए जाएंगे।

 

 

Updated On:
12 Jun 2019, 07:43:37 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।