सात साल से बंद जीएसएस खुलवाने की मांग, ऋण व नोड्यूज के लिए भटक रहे किसान, कलक्टर व एमडी को दिया ज्ञापन

By: Pawan Kumar Sharma

Updated On:
11 Jul 2019, 04:31:30 PM IST

  • Memorandum व्यवस्थापक की अनदेखी से सालों से बंद ग्राम सेवा सहकारी समिति जूनिया कार्यालय सरोली को खुलवाने की मांग को लेकर किसानों ने सोमवार को टोंक में जिला कलक्टर व सेन्ट्रल कॉपरेटिव बैंक एमडी को ज्ञापन दिया।

दूनी. व्यवस्थापक की अनदेखी से सालों से बंद ग्राम सेवा सहकारी समिति जूनिया कार्यालय सरोली को खुलवाने की मांग को लेकर किसानों ने सोमवार को टोंक में जिला कलक्टर व सेन्ट्रल कॉपरेटिव बैंक एमडी को ज्ञापन दिया।

 

कलक्टर व एमडी को दिए ज्ञापन में ग्रामीण ईश्वर सिंह, मदनलाल मीणा ने बताया की व्यवस्थापक के कई सालों से नदारद रहने से उन्हें कृषि ऋण भी नहीं मिल पा रहा है। वही नोड्यूज सहित अन्य कार्य को लेकर किसानों को व्यवस्थापक के घर उनियारा जाना पड़ रहा है।

 

किसानों ने बताया की व्यवस्थापक के नहीं आने से जीएसएस भवन सार-संभाल के अभाव में जीर्ण-शीर्ण होता जा रहा है। वहां हमेशा आवारा मवेशियों व समाजकंटकों का जमावड़ा बना रहता है साथ ही मुख्य द्वार व दीवारों के क्षतिग्रस्त होने से परिसर वाहनों का पार्किंग स्टेण्ड बना हुआ है। ज्ञापन देने वालों में घनश्याम सिंह सहित सरोली, जलसीना व जूनिया गांव के एक दर्जन सये अधिक किसान शामिल थे।

 


ग्रामीणों ने एसडीओ को सौंपा ज्ञापन
देवली. राजमहल पंचायत अधीन सतवाड़ा के ग्रामीणों ने गांव को पंचायत का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर बुधवार को एसडीओ अशोक कुमार त्यागी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि ग्राम सतवाड़ा को 1995 में बंथली पंचायत से हटाकर राजमहल पंचायत में जोड़ दिया गया।

 

साथ ही सतवाड़ा को पृथक से पंचायत बनाने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन देवीखेड़ा, लाखोलाई, कुशालपुरा राजस्व ग्राम नहीं होने के चलते सतवाड़ा पंचायत नहीं बन सका। तब से सतवाड़ा गांव राजमहल पंचायत में शामिल है। ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत बनने के नियमों में सतवाड़ा सभी मापदण्डों पर खरा है।

 

ग्रामीणों ने पुराने राजस्व ग्राम होने, जनगणना के आधार पर, यातायात साधनों की सुगमता, भौगोलिक स्थिति के मद्देनजर गांव सतवाड़ा को ग्राम पंचायत बनाने की मांग की। ज्ञापन देने में वार्ड पंच ममता प्रजापत, अशोक जैन, रमेशचंद मीणा, जगदीश, बद्रीलाल जाट, रामराज, दिनेश मेघवंशी सहित दो दर्जनों ग्रामीण थे।

tonk News in Hindi, Tonk Hindi news

Updated On:
11 Jul 2019, 04:31:30 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।