एक महीने में भी नहीं आ पाई कीटनाशक दवाओं की जांच रिपोर्ट

By: Akhilesh Lodhi

Updated On: 25 Aug 2019, 11:21:20 AM IST

  • कृषि विभाग द्वारा बोवाई और कीटनाशक दवाओं की जांच करने में देरी की गई। जिसके कारण किसानों को बीज और कीटनाशक दवाओं में हानि का सामना करना पड़ा।

टीकमगढ़.कृषि विभाग द्वारा बोवाई और कीटनाशक दवाओं की जांच करने में देरी की गई। जिसके कारण किसानों को बीज और कीटनाशक दवाओं में हानि का सामना करना पड़ा। जब खरीफ फसल की बोवाई और कीटनाशक दवाओं का छिड़काव हो गया। लेकिन दवा के छिड़काव से घास पर कोई असर नहीं पड़ा है। जिसके कारण किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। इसके बाद कृषि विभाग द्वारा बीज, खाद और कीटनाशक दवाओं के सैम्पल लिए गए। इसके बाद भी जांच के नमूने नहीं आ पाए।
खरीफ फसल को सुरक्षित करने के लिए किसानों द्वारा नए बीज, नई कम्पनी की कीटनाशक दवाओं के साथ खाद बाजार में बगैर जांच के बैची जा रही थी। उसी दौरान खरीफ की फसल की बोवनी की शुरूआत हो गई थी। बोवनी का समापन और बढ़ती फसल में कीटनाशक दवाओं छिड़काव करने का समय पर कृषि विभाग के संबंधित अधिकारियों द्वारा अंतिम समय पर जांच की गई। जांच के समय कीटनाशक दवाएं, बीज और खाद के सैम्पल लिए गए। कुछ दिनों बाद विभाग द्वारा जांच के लिए भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर भेजा गया। लेकिन जांच के लिए नमूने नहीं आए है। वहीं किसान सुरेश लोधी, बोरी निवासी रामचरण यादव और छोटेलाल यादव ने बताया कि खरीफ फसल में होने वाली घास पर कीटनाशक दवाओं का कोई असर नहीं पड़ा है। जिसके कारण हजारों का नुकसान हुआ है।

खाद, बीज और कीटनाशक दवाओं के लिए गए सैम्पल
कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जिले में खरीफ के सीजन में १०० खाद, बीज के १०४ और कीटनाशक दवाओं के ४१ सैम्पल लिए गए। विभाग द्वारा जांच के लिए प्रयोगशाला में नमूने भेजे गए। जहां खाद में १०० में से ६० फे ल, ४० पास, कीटनाशक दवाओं में ४१ लिए गए। जिसमें हाल ही में ७ मानक और १ फेल, बांकी ३३ प्रयोगशाला में जांच के लिए पड़े हुए है। बीज के १०४ में से ३ फेल और १०१ पास हो गए है।
इनका कहना
कृषि विभाग द्वारा खाद, बीज और कीटनाशक दवाओं के नमूने लिए गए। इन नमूनों को जांच के लिए प्रयोग शाला में भेजा गया है। खाद और बीज के नमूने तो आ गए। लेकिन कीटनाशक दवाओं के नमूने शतप्रतिशत नहीं आए है। जिन दुकानदारों के नमूने फेल पाए गए है। उन पर विभाग द्वारा कार्रवाई की जाएगी।
जीपी अहिरवार एडीओ कृषि विभाग टीकमगढ़।

Updated On:
25 Aug 2019, 11:21:19 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।