पनिहारी नदी में मिली मृत मछलियां

नवसारी।गणदेवी के अंभेटा गांव की पनिहारी नदी में बुधवार बड़ी मात्रा में छोटी मछलियां मृत पाई गई। लोगों के अनुसार नदी में रासायनिक दवाई डालकर बड़ी मछलियां पकड़ने की कारस्तानी है। गणदेवी तहसील के अंभेटा गांव के भवानी फलिया समीप से गुजरती पनिहारी नदी में ग्रामीणों ने बुधवार सुबह मृत मछलियों को देखा। घटना की जानकारी मिलते ही अंभेटा ग्राम विकास समिति के अध्यक्ष परेश पटेल साथियों के साथ मौके पर पहुंचे।



पटेल के अनुसार संभवतया नदी में किसी मछुआरे ने कपास में छिड़कने वाली रासायनिक दवाई डालकर मत्स्याटन किया है। गर्मी के दिनों में नदी का जलस्तर कम होता है। उक्त दवाई मछलियों की आंखों में जलन पैदा करती है। इससे मछलियां ऊपर आ जाती हैं।


मछुआरे जाल बिछाकर बड़ी मछलियों को पकड़ लेते हंै। बाजार में बड़ी मछलियों की मांग होने से मछुआरे ऎसा करते हैं। वे लोग छोटी मछलियों के कम दाम मिलने से उसे नदी की सतह पर ही छोड़ देते हैं। नदी में मछलियां मृत मिलने से अंभेटा ग्राम विकास समिति ने रात में नदी किनारे निगरानी रखने का निर्णय लिया है।

नदी किनारे निगरानी रखेंगे


अंभेटा ग्राम विकास समिति के सदस्य रात के समय पनिहारी नदी के किनारे पर निगरानी रखेंगे और अवैध रूप से होते मत्स्याटन पर रोक लगाने की कोशिश करेंगे। जरूरत पड़ने पर प्रशासन से भी मदद ली जाएगी।
परेश पटेल, अध्यक्ष, ग्राम विकास समिति, अंभेटा गांव

मछलियां पकड़ना नुकसानदायक


पनिहारी नदी में रासायनिक दवाई डालकर मछलियां पकड़ना क्षेत्र के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। पनिहारी नदी आगे जाकर अंबिका नदी के देव सरोवर के पास मिलती है। देव सरोवर का पानी आस-पास के गांवों और गणदेवी नगरपालिका पेयजल के तौर पर उपयोग करते हैं। नदी के पानी में रसायन घुलने से जलचर पर असर करता है, साथ ही लोगों के स्वास्थ्य पर भी दुष्प्रभाव पड़ने की आशंका है।
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।