एनआरसीपी से फंडिंग की कवायद

By: Mukesh Kumar Sharma

Updated On:
15 Jul 2017, 05:03:00 AM IST

  • मनपा के तापी शुद्धिकरण मास्टर प्लान को राज्य सरकार से मंजूरी मिल गई है। इस पर अमल के लिए मनपा
सूरत।मनपा के तापी शुद्धिकरण मास्टर प्लान को राज्य सरकार से मंजूरी मिल गई है। इस पर अमल के लिए मनपा प्रशासन ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय की एनआरसीपी योजना से फंडिंग कराने की कवायद शुरू की है। इसके लिए प्रोजेक्ट को केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा।

शहर की लाइफलाइन तापी नदी के शुद्धिकरण को लेकर मनपा ने पहली बार व्यवस्थित योजना बनाई है। मनपा ने विशेषज्ञों से इसका मास्टर प्लान तैयार कराकर मंजूरी के लिए राज्य सरकार को भेजा था। राज्य सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद तापी शुद्धिकरण की फंडिंग के लिए मनपा प्रशासन पर्यावरण मंत्रालय की नेशनल रिवर कंजरवेशन प्रोजेक्ट योजना के तहत ग्रांट की कवायद कर रहा है। 405 करोड़ रुपए के डीपीआर को केंद्र सरकार के पर्यावरण मंत्रालय को भेजने की तैयारी है।

 योजना को एनआरसीपी से ग्रांट मिलती है तो प्रोजेक्ट का 70 फीसदी खर्च ग्रांट से और बाकी खर्च मनपा और राज्य सरकार वहन करेगी। इससे पहले एनआरसीपी योजना के तहत मनपा ने मिंढोला प्रोजेक्ट के लिए ग्रांट ली थी, जो अब पूरा होने को है।

यह है प्रोजेक्ट

तापी शुद्धिकरण प्रोजेक्ट में मनपा प्रशासन काकरापार से ओएनजीसी ब्रिज तक के नदी के बहाव क्षेत्र पर काम करेगा। इस रूट पर राज्य सरकार, सूडा और मनपा के बीच समन्वय की जरूरत होगी। मनपा प्रशासन की शुरुआत में रांदेर के वीयर कम कोजवे की अप स्ट्रीम में कामरेज रोड और आसपास के क्षेत्र में एक सुएज पंपिंग स्टेशन और पांच सुएज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की योजना है। इसके अलावा तापी रूट पर आ रहे क्षेत्रों में ड्रेनेज नेटवर्क को मजबूत करने समेत अन्य कार्य कराए जाएंगे। वालक खाड़ी के रिडवलपमेंट प्लान को भी इसमें शामिल किया गया है।

Updated On:
15 Jul 2017, 05:03:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।