हरियाणा में अशोक तंवर की अगवाई में कांग्रेस की हार, प्रधान पद से विदाई तय

By: Prateek Saini

Published On:
May, 23 2019 07:30 PM IST

  • तंवर के प्रदेश अध्यक्ष रहते कांग्रेस को विधानसभा चुनावों में भी करारी हार झेलनी पड़ी...

(सिरसा): हरियाणा में अशोक तंवर की अध्यक्षता के दौरान हुए लोकसभा चुनावों में प्रदेश की सभी दस सीटें कांग्रेस पार्टी हार गई हैं। इसी के साथ एक फिर से कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद पर सवाल उठने लगे हैं। जिसको लेकर हरियाणा कांग्रेस के प्रधान की विदाई तय मानी जा रही हैं।


वर्ष 2014 में डॉ अशोक तंवर के हरियाणा कांग्रेस की कमान संभालने के बाद चुनावी समर में पार्टी की हार का जो सिलसिला शुरू हुआ था वह मौजूदा लोकसभा चुनावों में भी नहीं थम पाया। रोहतक लोकसभा सीट को छोड़ दें तो पार्टी कहीं पर भी भाजपा प्रत्याशियों को तगड़ी चुनौती नहीं दे पाई है।


अशोक तंवर द्वारा फरवरी 2014 में हरियाणा कांग्रेस के 19वें प्रधान के रूप में कुर्सी संभालने के तुरंत बाद लोकसभा चुनाव हुए जिनमें पार्टी केवल रोहतक में ही जीत दर्ज कर सकी थी। हुड्डा परिवार के रसूख के चलते दीपेंद्र सांसद बनने में सफल रहे जबकि नौ संसदीय क्षेत्रों में कांग्रेस प्रत्याशियों को बुरी तरह हार झेलनी पड़ी। इससे पहले वर्ष 2009 के संसदीय चुनावों में कांग्रेस दस में से नौ सीटों पर विजय पताका फहराने में सफल रही थी।


तंवर के प्रदेश अध्यक्ष रहते कांग्रेस को विधानसभा चुनावों में भी करारी हार झेलनी पड़ी। लगातार दस साल सत्ता में रहने वाली कांग्रेस सिर्फ 17 विधायकों पर सिमट गई। फिर पंचायत चुनाव से लेकर पांच नगर निगमों और फिर जींद उपचुनाव में भी कांग्रेस हार से उबर नहीं पाई और पार्टी प्रत्याशी लगातार चुनाव हारते चले गए। इतना ही नहीं संगठन के स्तर पर भी कांग्रेस पदाधिकारियों की अभी तक नियुक्तियां नहीं हो पाई हैं।


हरियाणा कांग्रेस में यही वजह है कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा का खेमा लगातार तंवर को बदलने के लिए लगातार आलाकमान पर दबाव बनाए हुए है। हार की जिम्मेदारी हालांकि हुड्डा की भी उतनी ही है जितनी तंवर की है लेकिन इस हार के बाद अब हुड्डा के मुख्यमंत्री पद के दावे पर भी अंगुली उठनी तय है। कांग्रेस के तमाम दिग्गजों के चुनाव हारने का मतलब साफ है कि हाईकमान अब कड़े फैसले लेने को मजबूर होगा।

Published On:
May, 23 2019 07:30 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।