झर-झर झरता मेह....बागों में नाचा मन का मयूर

By: Narendra

|

Published: 14 Aug 2019, 02:35 AM IST

sikar

सीकर. शेखावाटी में पिछले चार दिन से बढ़ रही उमस के बाद मंगलवार शाम को मौसम का मिजाज पूरी तरह बदल गया। देर शाम श्रीमाधोपुर, नीमकाथाना सहित जिले के कई स्थानों पर अच्छी बारिश हुई। इधर सीकर जिला मुख्यालय पर देर रात बारिश का दौर शुरू हुआ। रुक-रुक कर बारिश का क्रम देर तक जारी रहा। इधर प्रदेश में आगामी तीन दिन तक भारी बारिश का अलर्ट जारी हुआ है। मानसून के दूसरे चरण में सक्रिय हुए मानसून के कारण शेखावाटी में स्वतंत्रता दिवस के बाद भारी बारिश होगी। इस दौरान 30 से 40 किमी की रफ्तार से हवाएं भी चल सकती है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को सवाईमाधोपुर, भरतपुर, धौलपुर, करौली जिले में, गुरुवार को कोटा झालावाड, बारां, चितौडगढ़़, भीलवाड़ा, टोंक, अजमेर, बूंदी और शुक्रवार को सीकर, झुंझुनंू, जयपुर, अलवर जिले में कई स्थानों पर भारी बारिश होगी। इधर, मानसून के दूसरे चक्र की शुरुआत के बाद से शेखावाटी अंचल में बने कम दवाब का क्षेत्र बन गया है। जिसका नतीजा है कि अंचल में बारिश नहीं हो रही है। सीकर में मंगलवार दोपहर में उसम रही। सुबह से ही बादल तो छाए रहे लेकिन बारिश नहीं हुई। फतेहपुर में अधिकतम तापमान ३५.३ डिग्री और न्यूनतम तापमान २५ डिग्री दर्ज किया गया।
एक घंटे तक झमाझम
नीमकाथाना. दिन में हो रही तेज धूप के बाद मंगलवार रात को झमाझम बारिश हुई। करीब ८ बजे शुरू हुई बारिश एक घंटे तक चली। इसके बाद भी रिमझिम का दौर जारी रहा। बरसात के बाद निचले इलाकों के घरों में पानी घुस गया। शहर की सडक़ें जगह-जगह तालाब का रूप ले लिया। चूरू. जिले में २७ जुलाई के बाद मंगलवार शाम पौन घंटे तक हुई बारिश से किसानों के चेहरे खिल उठे। क्षेत्र के कई वार्डों में नीचले स्थानों पर पानी भर गया। ऐसे में लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। शाम को करीब साढे सात बजे शुरू हुई बारिश तेज गति के साथ जारी रही। इससे लोगों ने कई दिनों से पड़ रही उमस से राहत की सांस ली है। बारिश के कारण सुभाष चौक व जौहरी सागर, झारिया मोरी, भाईजी चौक आदि क्षेत्रों में लोगों को आवागमन में परेशानी हुई। गौरतलब है कि जिला मुख्यालय पर 24 जुलाई को शाम साढ़े आठ से 26 जुलाई को सुबह साढ़े आठ बजे तक 36 घंटे में 2१४ एमएम यानी आठ इंच से अधिक बारिश हो चुकी है। तेज हवा के साथ आई बारिश से शहर के मुख्य मार्ग पानी से लबालब हो गए। ऐसे में राहगिरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
राजकीय लोहिया महाविद्यालय मार्ग पर पानी भर गया। ये शहर का सबसे व्यस्ततम मार्गों में से एक है। इध मौसम विभाग के अनुसार चूरू में अधिकतम ३९.२ और न्यूनतम २८.३ डिग्री सैल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया। इधर नगरपरिषद के पुख्ता इंतजाम नहीं होने के कारण जिला मुख्यालय पर जगह-जगह पानी भर गया। कई दिनों के अंतराल के बाद तेज बारिश हुई है। पानी देर रात तक मुख्य मार्गों पर ही भरा नजर आया।
फसल मुरझाने लगी
सांखूफोर्ट. क्षेत्र में पीछले तीन दिनों से लगातार चल रही परवा हवा से फसल मुरझाने लगी है। मंगलवार शाम को हल्की बारिश हुई है जिससे फसलों को कुछ राहत मिली।किसान देबू सिंह ने बताया परवा हवा की वजह से फ सल मुरझा रही है फ सल को अच्छी बारिश की आवश्यकता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।