इसी माह कैनलेस हो जाएगी सरस डेयरी

By: Vinod Singh Chouhan

Updated On:
12 Jun 2019, 06:41:08 PM IST

  • दूध की गुणवत्ता में सुधार के साथ ही खर्चों में भी आएगी कमी

पलसाना. सीकर एवं झुंझुनूं जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ पलसाना इसी माह कैनलेस हो जाएगी। हालांकि योजना के अनुसार मार्च 2019 तक ही डेयरी को कैनलेस करने की योजना थी, लेकिन अब तीन माह देरी से जून तक इस कार्य को पूरा कर लिया जाण्गा। इसके बाद डेयरी के डॉक पर कैनों से आने वाला दूध बंद हो जाएगा और फील्ड में बनी बीएमसी (बल्क मिल्क कूलर) समितियों पर ही दूध को एकत्रित कर वहां से ठंडा करने के बाद टैंकरों से डेयरी में लाया जाएगा। इससे दूध की गुणवत्ता में सुधार होने के साथ ही डेयरी के परिवहन खर्चों में भी कमी आएगी।
योजना में 11 करोड़ रुपये मिले
डेयरी को कैनलेस करने के लिए केंद्र सरकार की नेशनल प्रोग्राम फॉर डेयरी डवलपमेंट योजना के तहत दो साल पहले करीब 11 करोड़ का बजट मिला था। इसको दो चरणों में खर्च कर करना था। पहले चरण का कार्य पूर्ण होने के बाद अब दूसरे चरण का कार्य चल रहा है। डेयरी अधिकारियों की माने तो अब करीब दस प्रतिशत कार्य शेष है।
128 हो जाएगी बीएमसी समितियों की संख्या
योजना के शुरू होने से पहले 52 समितियों पर बीएमसी लगी हुई थी, लेकिन अब योजना के तहत कार्य होने के बाद में वर्तमान में इनकी संख्या 122 हो गई है। छह बीएमसी और लगनी है। ऐसे में दोनों जिलों में कुल 128 बीएमसी समितियां हो जाएगी।
झुंझुनूं हुआ कैनलेस
डेयरी संघ फिलहाल दो जिलों का है और झुंझुनूं जिले को इसी माह एक जून से कैनलैस कर दिया गया है। झुंझुनूं में लगा हुआ चिलिंग सेंटर डेयरी ने बंद कर दिया है और वहां कलेक्शन होने वाला दूध बीएमसी समितियों पर ही एकत्रित किया जाता है। इसके बाद वहां ठंडा करने के बाद टैंकरों से पलसाना डेयरी प्लांट में लाया जा रहा है। झुंझुनूं में स्थित चिलिंग सेंटर को बंद कर देने से डेयरी को विभिन्न प्रकार से करीब चार से पांच लाख रुपये महिने की बचत हो रही है।
इस माह बंद हो जाएंगे चार रूट
डेयरी में वर्तमान में दूधवा, पालड़ी, रसीदपुरा व रिंग रूट सहित चार बड़े मार्ग है जिनसे अभी भी कैनों से दूध आ रहा है, लेकिन इन रूटों में आने वाली छह ओर समितियों पर इसी माह बीएमसी स्थापित कर दी जाएगी। ऐसे में इस माह इन रूटों को भी बंद कर दिया जायेगा। इसके बाद डेयरी पूर्ण रूप से कैनेलेस हो जायेगी।
इनका कहना है
डेयरी को कैनलेस करने को लेकर कार्य अंतिम स्टेज पर है। सीकर में छह बीएमसी और लगनी है। यह कार्य भी इसी माह पूरा हो जाएगा।
-केसी मीणा, प्रबंधक, सरस डेयरी पलसाना

Updated On:
12 Jun 2019, 06:41:08 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।