व्यवस्थापक पर फर्जी अंगूठा लगाकर पैसे निकालने का आरोप

By: Vinod Singh Chouhan

Published On:
Jul, 11 2019 05:52 PM IST

  • नाथूसर ग्राम सेवा सहकारी समिति का मामला व्यवस्थापक ने आरोप को निराधार बताया

मूंडरू. नाथूसर ग्राम सेवा सहकारी समिति लिमिटेड रतनपुरा के व्यवस्थापक अमर सिंह जीतरवाल के खिलाफ रतनपुरा गांव के एक जने ने विभिन्न धाराओं में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस थाना श्रीमाधोपुर में दर्ज कराई गई एफआईआर में राजेंद्र प्रसाद बुढ़ानिया ने व्यवस्थापक जीतरवाल पर आरोप लगाया है कि उसकी माता तुलसी देवी का नाथूसर ग्राम सेवा सहकारी समिति में बचत खाता है। व्यवस्थापक ने उसकी माता तुलसी देवी, उसके परिवार की बोदी देवी के बचत खाते से फर्जी अंगूठा निशानी लगाकर रुपए निकाल लिए। बीस दिन पहले तुलसी देवी रुपए निकालने गई थी तब उसे पता चला की उसके खाते आठ हजार रुपए निकाल लिए गए। इसके बाद परिवार के अनरू खाते की जांच की तो उसमें भी गड़बड़ी मिली। इसके बाद मंगलवार को थाने में मामला दर्ज कराया गया।
वहीं आरोप है व्यवस्थापक द्वारा अपने सगे भाई सोहन लाल जाट जो कि आईसीआईसीआई बैंक श्रीमाधोपुर में कार्यरत है, जिसका डेढ़ लाख रुपए सरकार की ऋण माफी योजना में ऋण माफ करवा दिया जो कि नियमानुसार गलत है। व्यवस्थापक पर एक साथ दो जगह काम करने का आरोप लगाया है। दर्ज एफआईआर में लिखा है कि नाथूसर ग्राम सेवा सहकारी समिति का गठन 2012 में हुआ था। व्यवस्थापक ने सहकारी में रहते हुए 2014 तक गांव के विश्वभारती पब्लिक स्कूल में भी काम किया था। व्यवस्थापक ने सहकारी समिति व स्कूल दोनों जगहों से भुगतान उठाया है। जीतरवाल ने तथ्य छुपाकर इसी समयावधि का विश्व भारती सीनियर सेकंडरी स्कूल रतनपुरा में अध्यापन कार्य अनुभव प्रमाण पत्र जिला शिक्षा अधिकारी सीकर से जारी कराया है।

2012 से लेकर 2014 तक के समय को जोडक़र उक्त व्यक्ति को ग्राम सेवा सहकारी समिति के व्यवस्थापक के पद पर स्थाई किया गया। जबकि इस अवधि का स्कूल का अनुभव प्रमाण पत्र बना हुआ है। व्यवस्थापक ने गलत तथ्य पेश कर स्थाई नियुक्ति प्राप्त करने के आरोप लगाए है। उधर व्यवस्थापक अमर सिंह ने कहा कि सहकारी समितियों में ग्राहक को बचत खाते का काउंटर पेमेंट किया जाता है। किसी का भी पैसा फर्जी अंगूठा निशानी से नहीं निकाला जा सकता। हर वर्ष समिति की ऑडिट होती है। आरोप निराधार है जो जांच में स्पष्ट हो जाएंगे।

Published On:
Jul, 11 2019 05:52 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।