सावधान ! फर्जी है बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना

By: Sonelal Kushwaha

Updated On:
05 Apr 2018, 07:00:00 AM IST

  • मप्र के सीधी जिले से रोजाना पोस्ट किए जा रहे दो हजार से ज्यादा आवेदन

सीधी. प्रधानमंत्री बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना की भ्रामक जानकारी देकर कुछ लोग ग्रामीण अंचल के शरीफ लोगों को लूटने का प्रयास कर रहे हैं। खासकर महिलाएं जरूरी काम छोड़कर डाकघर के चक्कर लगा रही हैं। बताया कि कुछ लोगों ने अफवाह फैलाई कि योजना के तहत फॉर्म भरने से बेटी को दो लाख रुपए मिलेंगे। लिहाजा, रोजाना यहां दो हजार से ज्यादा लोग फार्म भरने के लिए पहुंच रहे हैं। पोस्ट आफिस के कर्मचारी भी परेशान हैं। बताया गया कि करीब महीनेभर से यह अफवाह फैलाई जा रही है। शुरुआती दौर में कम लोग फार्म भेजने के लिए आते थे, लेेकिन धीरे-धीरे संख्या बढ़ती गई। गत एक सप्ताह से प्रधान डाकघर में रोजाना दो हजार से ज्यादा लोग पहुंच रहे हैं।

अहम जानकारी
इसके लिए दो पेज का फार्म के साथ पता प्रिंटेड लिफाफा स्टेशनरी दुकानों पर उपलब्ध है। पहले पेज पर योजना की डिटेल के साथ ही स्वयं की संपूर्ण जानकारी भरनी है। दूसरा पेज ग्राम प्रधान द्वारा भरा जाना है। प्रधान आवेदक का नाम-पता सत्यापित करेगा। पासपोर्ट साइज की फोटो चस्पा कर जाति, निवास व आय प्रमाण पत्र व शैक्षणिक योग्यता संबंधी दस्तावेज के साथ पासबुक की फोटोकॉपी लगाकर फार्म को भारत सरकार रक्षा मंत्रालय एवं बाल विकास मंत्रालय शास्त्री भवन नई दिल्ली के पते पर भेजा जा रहा है। प्रधान द्वारा भरे जाने वाले फार्म में भी कुछ डिटेल अंकित की गई है, जिसमें प्रधानमंत्री ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत की है, बताया गया कि शुरुआती दौर में 200 करोड़ के बजट के साथ यह योजना 120 जिलों में शुरू की गई है। साथ ही उल्लेखित है कि यह योजना गांव तथा शहर के लिए भी है, साथ ही यह भी उल्लेखित किया गया है कि इसमें सभी बेटी के लिए दो लाख रुपए दिया जाएगा।

150 रुपए में फार्म
इसमें सक्रिय लोग तीन रुपए से 150 रुपए तक में फार्म बेच रहे हैं। स्टेशनरी दुकान संचालक इस फार्म की बिक्री को लेकर ग्रामीण महिलाओं को खूब लूट रहे हैं। शहर की लगभग सभी स्टेशनरी दुकानों में ये फार्म उपलब्ध हैं। लेकिन प्रशासन कार्रवाई के लिए तैयार नहीं हैं।

प्रशासन से मांगी मदद
एक सप्ताह से डाकघर में फार्म पोस्ट करने पहुंच रही भीड़ से व्यवस्थाएं चरमरा सी गई हैं। पोस्टमास्टर नरेंद्र सिंह ने कलेक्टर को पत्र लिखकर मदद मांगी है। बताया कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत दो लाख की राशि भुगतान के संबंध में भ्रामक प्रचार किया जा रहा है। महीनेभर से रोजाना करीब दो हजार हितग्राही स्पीड पोस्ट करने के लिए आ रहे हैं। जिससे अन्य कार्य प्रभावित हो रहे है। उन्होंने कलेक्टर को लिखे पत्र की प्रतिलिपि महिला बाल विकास अधिकारी, पुलिस अधीक्षक और थाना प्रभारी कोतवाली को भी भेजी है।

किया मौका मुआयना
पोस्ट ऑफिस में जुटी भीड़ एवं इससे उत्पन्न हो रही अव्यवस्था की सूचना पाकर पुलिस व प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची। बाद में व्यवस्था संभालने के लिए यहां एसआई दीपक बघेल के साथ महिला पुलिस तैनात किया है। तहसीलदार भी मौके में जाकर महिलाओं को समझाइस दी।

कुछ लोगों से जानकारी मिली तो फार्म जमा करने चले आए। मैंने दो बालिकाओं के नाम से आवेदन जमा किया है।
सुंदर साकेत, रामपुर खैरही

मोहल्ले के सभी लोग फार्म भर रहे हैं। मैं भी चली आई। बताया गया कि दो लाख मिलेंगे।
शशि प्रजापति, दक्षिण करौंदिया

बताया गया है कि प्रधानमंत्री की योजना है, फार्म भरने से दो लाख मिलेंगे। मैं भी बेटी का फार्म पोस्ट करने आ गई।
दुअसिया साकेत, पनवार

प्रधानमंत्री की योजना मेें बेटियों को दो लाख मिलने का बताया गया है, मेरे तीन बेटियां हैं, तीनो का फार्म भरने आई हूं।
संतू साकेत, पुरानी सीधी
इसमें दो लाख मिलने की हर जगह चर्चा है। मैं भी यह फार्म भरकर पोस्ट करने आई हूं।
दियावती साकेत, रामपुर

जानकारी कहां से फैली और पैसा कब मिलेगा यह नहीं पता, सब भर रहे थेे इसलिए मैं भी फार्म भरकर पोस्ट करने चला आया।
शेषमणि साकेत, पुरानी सीधी

मुझे नहीं है जानकारी
इस तरह की जानकारी अभी तक मेरे पास नहीं आई है। न ही ऐसी कोई योजना है, मैं तुरंत तहसीलदार को मौके पर भेजता हूं।
शैलेंद्र सिंह, एसडीएम, गोपद बनास

ऐसी कोई योजना नहीं है, भ्रामक जानकारी फैलाई जा रही है। इस संदर्भ में अपील जारी कर दी है। लोग इससे बचें।
प्रवेश मिश्रा,
महिला सशक्तिकरण अधिकारी सीधी

Updated On:
05 Apr 2018, 07:00:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।