डॉक्टर ने कहा...ऑपरेशन से होगी डिलीवरी, ब्लड की व्यवस्था करो, नॉर्मल हो गई डिलीवरी

By: Laxmi Narayan

Updated On:
24 Aug 2019, 04:49:47 PM IST

  • - जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में डॉक्टर के सामने ही हो गया प्रसव
    -इधर नवजात और गर्भवती की मौत पर लगा लापरवाही का आरोप

श्योपुर
गर्भवती महिला के परिजनों से ड्यूटी डॉक्टर ने कहा स्थिति गंभीर है। डिलीवरी ऑपरेशन से होगी। फटाफट ब्लड की व्यवस्था करो। नहीं तो इसको बाहर ले आओ। डॉक्टर की बात सुन परिजन घबरा गए और ऑपरेशन कराने की हामी भरते हुए ब्लड की व्यवस्था कर दी। डॉक्टर ने भी ऑपरेशन की तैयारी शुरु कर दी। इसी बीच डॉक्टर के सामने नॉर्मल डिलीवरी हो गई। महिला ने बच्ची को जन्म दिया। नॉर्मल डिलीवरी होने के बाद परिजनों ने ड्यूटी डॉक्टर और मेटरनिटी स्टॉफ को खरी-खोटी सुनाई। मामला जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड का है।
गुरुवार की देर शाम प्रसव पीडा शुरु होने पर परिजन अरबा को जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। मेटरनिटी वार्ड में उसे भर्ती कराया। यहां ड्यूटी पर मिले डॉ महेश गुप्ता ने गर्भवती अरबा को देखने के बाद परिजनों से कहा कि स्थिति गंभीर है। डिलीवरी ऑपरेशन के जरिए होगी। ऑपरेशन के दौरान ब्लड की जरुरत पड़ेगी। इसलिए जल्द ब्लड की व्यवस्था करो। डॉक्टर के कहने पर परिजनों ने दो यूनिट ब्लड की व्यवस्था कर दी और ऑपरेशन के लिए अपनी स्वीकृति भी दे दी। जिसके बाद डॉक्टर और स्टॉफ ने महिला का ऑपरेशन करने की तैयारियां शुरु कर दी। इसी बीच अरबा की डिलीवरी नॉर्मल हो गई। अरबा के चिल्लाने पर दौड़े परिजनों और स्टाफ ने जच्चा-बच्चा को संभाला।
वर्जन
मेटरनिटी वार्ड में डॉक्टर और स्टॉफ लापरवाही बरत रहे है। मेरी बेटी की डिलीवरी नॉर्मल हो गई। डॉ. महेश गुप्ता ऑपरेशन करने की तैयारी करने लग गए। डॉक्टर ने हमसे ब्लड की व्यवस्था भी करवा ली। इस लापरवाही की शिकायत करेंगे।
मुर्तजा निसार हुसैन
प्रसूता के पिता,श्योपुर

डिलीवरी के बाद नवजात की मौत, परिजन बोले स्टॉफ ने नहीं दिया ध्यान
मेटरनिटी वार्ड में शुक्रवार की सुबह एक महिला की डिलीवरी होने के बाद उसके नवजात बच्चे की मौत हो गई। इसके लिए परिजनों ने मेटरनिटी वार्ड के स्टॉफ पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। ग्राम लुहाड़ निवासी गर्भवती ममता पत्नी राकेश बैरवा को प्रसव पीडा होने पर गुरुवार को परिवार के लोग बड़ौदा अस्पताल ले गए। जहां से ममता को जिला अस्पताल रैफर कर दिया। मेटरनिटी वार्ड में रातभर ममता भर्ती रही और शुक्रवार सुबह ममता की नॉर्मल डिलीवरी हो गई। इस दौरान ममता ने बच्चे को जन्म दिया। लेकिन कुछ देर बाद ही ममता के नवजात बच्चे की मौत हो गई। ममता के पति राकेश ने बताया कि डिलीवरी होने के बाद न तो डॉक्टर ने सुध ली और न ही स्टॉफ ने। जिस कारण बच्चे की मौत हो गई।

वीरपुर से रैफर होकर आई गर्भवती महिला ने भी तोड़ा दम
जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में शुक्रवार को नवजात बच्चे की मौत होने के बाद एक गर्भवती महिला की भी मौत हो गई। यह गर्भवती महिला वीरपुर अस्पताल से रैफर होकर जिला अस्पताल आई थी। ग्राम पंचायत रिझेटा के गांव किशनपुरा निवासी माया पत्नी कल्लू बंजारा को प्रसव पीड़ा होने पर परिवार के लोग गुरुवार को वीरपुर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां से शुक्रवार को माया को जिला अस्पताल के लिए रैफर कर दिया। इसके बाद परिजन माया को लेकर जिला अस्पताल लेकर आए। लेकिन जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में भर्ती किए जाने के बाद माया की मौत हो गई।

वर्जन
कभी कभी ऐसी स्थितियां बन जाती है कि ऑपरेशन की स्थितियों के बीच डिलीवरी नॉर्मल हो जाए। मगर ऐसी स्थिति में खतरा ज्यादा रहता है। जबकि वीरपुर से रैफर होकर आई गर्भवती महिला तो यहां मृत अवस्था में आई थी। उसकी मौत जिला अस्पताल में नहीं हुई। रही बात नवजात बच्चे की मौत की तो इसकी जांच करवाएंगे।
डॉ आरबी गोयल
सिविल सर्जन,श्योपुर

Updated On:
24 Aug 2019, 04:49:47 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।