यूपी के इस जिले में दिखा शर्मनाक नजारा, नहीं मिला एम्बुलेंस तो ऐसे ले गए शव

By: Iftekhar Ahmed

Updated On: Feb, 25 2019 06:56 PM IST

  • विचलित करने वाली तस्वीरें शामली की है

शामली. स्वास्थय विभाग की सेवाओं और योजनाओं का उत्तर प्रदेश में जनाजा निकला है। ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि यहां स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से चौपट होती नजर आ रही है। यहां एक अज्ञात शवों को रहड़ो पर ढोने का मामला सामने आया है। एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हुई तो अज्ञात युवक के शव को रहड़े पर ढोकर अंतिम संस्कार के लिए ले गए। आरोप है कि कई घण्टों तक फोन करने के बावजूद भी एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हुई। लोग लगातार फ़ोन करते रहे, लेकिन उन्हें शव ले जाने के लिए न तो शव वाहन उपलब्ध कराया गया और न ही एम्बुलेन्स।

यह भी पढ़ें: देवबंद से आतंकी पकड़े जाने के बाद हथियारों से लैस लोगों ने दी दारुल उलूम को तहस-नहस करने की चेतावनी, देखें वीडियो

विचलित कर देने वाली तस्वीर आप देख रहे हैं कि किस तरह से हाईटेक युग में शवों को रेहडे पर ढोया जा रहा है। करीब 3 किलोमीटर तक शहर के सम्भ्रान्त लोग शव को लेकर सिटी के फव्वारा चोंक पर पहुंचे। जो लोग शव को लेकर जा रहे हैं, इनकी माली स्थिति भी ठीक नहीं है। इस लिए यह अपने पैसों से किसी प्राइवेट वाहन की व्यस्था भी नही कर सके। मात्र 60 रुपए में रहड़े किराया पर तय कर शव को निर्धारित स्थल पर ले गए। ऐसे में सिस्टम पर सवाल खड़ा होता है कि आखिर कौन जिम्मेदार है इसके पीछे? आखिर क्या वजह है कि स्वास्थय सेवाओ में सुधार नहीं हो रहा है ?

यह भी पढ़ें: घर खरीदारों के लिए आई बड़ी खुशखबरी, अब नोएडा समेत पूरे एनसीआर में मिलेंगे सस्ते घर

यह था मामला

शामली में दो दिन पूर्व गांव सिंभालका के पास एक अज्ञात युवक का शव जंगल में पड़ा हुआ था। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया था। जिसके बाद पुलिस इस घटना की गुत्थी सुलझाने में जुट गई है कि हत्या करने के बाद शव को फेंका गया है या फिर किसी हादसे में मौत हुई है? पोस्टमार्टम के बाद शहर के कुछ लोग अंतिम संस्कार के लिए शव लेने पहुंचे तो शव तो उन्हें मिल गया, लेकिन शव को लेकर जाने के लिए किसी सरकारी वाहन नहीं मिला। लोगों ने एक के बाद एक कई फ़ोन कॉल एम्बुलेन्स और शव वाहन बुलाने के लिए की, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। इसके बाद उन सभी लोगों ने एक रहड़ा किराये पर किया और शव को उसमें रखकर ले गए।

Published On:
Feb, 25 2019 06:56 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।