शुभ मुहूर्त में होगा बप्पा का आगमन

Gopal Bajpai

Publish: Sep, 12 2018 10:29:18 PM (IST)

चौक-चौराहों पर सजे पांडाल

शाजापुर.

घर-मंदिरों में गुरुवार को गौरीपुत्र की स्थापना के साथ ही गणेश उत्सव का भी आगाज हो जाएगा। विघ्नहर्ता श्री गजानन की अगवानी के लिए प्रमुख चौराहों पर आकर्षक पांडाल तैयार किए गए है, जिससे पूरा नगर लंबोदर के रंग में रंग गया है। इस बार गणेशोत्सव १0 दिनों का रहेगा।

शहर में पांच दर्जन से अधिक स्थानों पर गणेश उत्सव समितियों ने पांडाल तैयार किए हंै। बुधवार को आजाद चौक, सराफा बाजार, बस स्टैंड सहित अन्य क्षेत्रों में भगवान गणेश की प्रतिमा बेचने वालों ने भी दुकानें सजा ली। गुरुवार को शुभमुहूर्त में प्रतिमा विराजित करने का दौर शुरू हो जाएगा। देर शाम तक चलने वाले इस आयोजन के साथ ही १0 दिनों तक रंगारंग एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी श्रीगणेश होगा, जिसमें विभिन्न समितियों की ओर से भगवान गणेश की आराधना करने के साथ प्रतियोगिता भी आयोजित की जाएगी। गणपति की स्तुति शुरू होने के साथ ही बाजारों में रौनक सी छा गई है। मिठाई विक्रेताओं ने मोदकप्रिय श्री गणेश के भोग के लिए लड्डुओं का निर्माण शुरू कर दिया है। दस दिनों तक शहर में मोदक की जमकर बिक्री होगी। वहीं हार-फूल का व्यवसाय भी चमक उठेगा।

गजकेसरी योग में होगी विघ्नहर्ता की स्थापना
भगवान गणेश की पूजन स्थापना के समय गजकेसरी योग, बुध आदित्य योग और दोपहर के समय 12 से 3 के बीच लाभ-अमृत की चौघडिय़ा रहेगा। पूजन स्थापना के लिए यह योग अति उत्तम माना जाता है। शाम को 4.30 से 6 बजे तक शुभ की चौघडिय़ा भी स्थापना के लिए शुभ है। भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को प्रात:काल स्नान से अपनी शक्ति के अनुसार प्रतिमाओं का विधिपूर्वक पूजन करे। चतुर्थी तिथि शाम 5.40 बजे तक रहेगी। उदयातिथि एवं भद्रा के कारण गोधूलि से यह त्यौहार रात्रि में 11.27 मिनट तक रहेगा। व्रत सूर्योदय से पूजा तक रहेगा। गणेश पुराण में वर्णित कथाओं के अनुसार इसी दिन समस्त विघ्न बाधाओं को दूर करने वाले, कृपा के सागर तथा भगवान शंकर और माता पार्वती के पुत्र श्री गणेश जी का जन्म हुआ था। 13 सितंबर को प्रात: 6 से शाम 5.34 बजे तक भद्रा रहेगी। इसलिए मूर्ति स्थापना व पूजा का शुभ समय गोधूली बेला में सायंकाल 5.40 से रात 9 बजे तक शुभ-अमृत, चर चौघडिय़ा, स्थिर लगन कुंभ रात्रि 9.30 से 11. 27 बजे तक स्थिर लगन वृषभ भी रहेगा। खासबात यह है की इस बार गणेशजी दस दिनो तक पांडाल में विराजित होंगे ओर 11वें दिन विसर्जन के लिए चल समारोह निकाला जाएगा।

नित्यानंद आश्रम की गणेश प्रतिमा आकर्षण का केंद्र
एबी रोड स्थित शहर के नित्यानंद आश्रम में भगवान गणेश की प्रतिमा आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। गणेश चतुर्थी के अवसर पर प्रतिमा पर आकर्षक रंग रोगन कर विद्युत सज्जा की गई है। प्रभु के दर्शन के लिए यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचेंगे। इसी तरह शहर के प्राचीन गणेश मंदिरों में भी विशेष साज सज्जा के साथ भगवान गणपति की आराधना चलेगी।

More Videos

Web Title "Auspicious Muhurat will be the arrival of Bappa"