इंक्वायरी में फेश टू फेस साउंड सिस्टम का अभाव

By: Shiv Mangal Singh

Published On:
Sep, 12 2018 08:29 PM IST

  • रेल जानकारी के आदान-प्रदान मेंं हो रही परेशानी

शहडोल. संभागीय मुख्यालय के रेलवे इंक्वायरी में फेश-टू-फेश साउंड सिस्टम के अभाव में यात्रियों को रेल संबंधी जानकारी के आदान-प्रदान में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालात ऐसे बने रहते है कि इंक्वायरी काउंटर में बैठे कर्मचारी को यात्री की स्पष्ट आवाज सुनाई नहीं देती तो कर्मचारी की आवाज भी यात्री तक स्पष्ट रूप से नहीं पहुंच पाती है। नतीजतन यात्री को एक ही सवाल को कई पूंछना पड़ता है और काउंटर क्लर्क को भी बार-बार एक ही सवाल का जबाब देना पड़ता है। कभी-कभी तो तेज स्वर में बोलने की वजह से कई यात्री झगड़ा करने पर उतारू हो जाते हैं। काउंटर में एक ही ट्रेन की जानकारी लेने वाले कई यात्री आते है, जिसका बार-बार जबाब देने में काउंटर क्लर्क को झल्लाहट भी होने लगती है, जबकि यदि साउंड सिस्टम लग जाने से एक जानकारी एक साथ कई यात्रियों को मिल सकती है। गौरतलब है कि अनूपपुर के रेलवे स्टेशन में फेश-टू-फेश साउंड सिस्टम की व्यवस्था तो हैं ,मगर बी ग्रेड के शहडोल रेलवे स्टेशन में इसकी अव्यवस्था लोगों के समझ से परे है। रेलवे इंक्वायरी क्लर्क का कहना है कि साउंड सिस्टम के स्पीकर को काफी उंचे स्थान पर लगाया गया है, जिस पर यात्रियों का ध्यान जाता ही नहीं है। साथ ही काउंटर क्लर्क की आवाज तो स्पीकर में सुनाई देगी, पर यात्रियों की आवाज को सुनने के लिए साउंड सिस्टम की कोई व्यवस्था नहीं है।

चेन पुलिंग करने वाले अब जेल भेजे जाएंगे आरोपित
शहडोल। चेन पुलिंग कर ट्रेनों का प्रभावित करने वाले यात्री नहीं बख्शे जाएंगे। उन पर कार्रवाई करते हुए सीधे कोर्ट में पेश करना होगा। मुचकले पर नहीं छोडऩे की सख्त हिदायत सभी आरपीएफ व आउटपोस्ट प्रभारियों को दी गई। इस नियम को तोडऩे वाले यात्रियों के खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 141 के तहत अपराध दर्ज किया जा रहा है। हाल ही में ही जोनल स्थित आरपीएफ मुख्यालय में उच्च अधिकारियों की बैठक हुई थी। इसमें चेन पुलिंग वाले यात्रियों पर सख्ती बरतने का आदेश दिया गया है। बताया गया है कि अक्सर चेन पुलिंग की वजह से ट्रेनें लेट हो रही हैं। इससे बचने के लिए रेलवे अभियान के तहत चेन पुलिंग करने वालों की धर-पकड़ कर संबंधितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने का निर्णय लिया गया है।

Published On:
Sep, 12 2018 08:29 PM IST

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।