दो महीने में करोड़ों फूंके फिर भी रेल यात्रियों की समस्याएं जस की तस

By: Shiv Mangal Singh

Published On:
Jan, 12 2019 07:05 AM IST

  • जीएम साहब कृपया बताएं, बी-ग्रेड के रेलवे स्टेशन में यात्री सुविधाओं का विस्तार होगा या औपचारिकता का निर्वहन

शहडोल. दक्षिण पूर्व मध्य रेल बिलासपुर जोन के महाप्रबंधक सुनील कुमार सोइन का अन्तत: १२ जनवरी को शहडोल दौरा कार्यक्रम तय हो ही गया और उनके आगमन पर करोड़ों रुपए खर्च करके रेलवे स्टेशन और कॉलोनी को जगमग तो कर दिया गया है, मगर यात्रियों को सुविधाओं की एक भी सौगात नहीं दी गई है। संभागीय मुख्यालय में एक लंबे अरसे से रेल सुविधाओं के विस्तार की मांग की जा रही है। मांगे पूरी नहीं होने से यात्रियों को होने वाली परेशानियों के संबंध में पत्रिका द्वारा अभियान चलाकर समाचारों का प्रकाशन भी किया गया है, लेकिन जीएम के आगमन के पूर्व यात्रियोंं की समस्याओं के समाधान के कोई प्रयास नहीं किए गए है। बल्कि ऐसे कई कार्यों में करोड़ो रुपए फूंक दिए गए जिसकी अभी कोई जरूरत नहीं है। दौरा कार्यक्रम के अनुसार लंच के पहले जीएम एआरटी व एआरएमई, यार्ड व स्टेशन, रनिंग रूम, सब डिविजनल ऑफिस का निरीक्षण और रिमोट कन्ट्रोलेड बीएम टीआरडी एटी एसएम आफिस का उद्घाटन करेंगे और लंच के बाद चिल्ड्रन पार्क, सबडिविजनल ऑफिस और आरपीएफ बैरक का उद्घाटन करेंगे। कुल मिलाकर पिछले दो माह से रेलवे स्टेशन व कॉलोनी में जो भी कार्य कराए गए हैं, वह रेल यात्रियों सुविधाओं के लिए नहीं अपितु जीएम को महज दिखाने के लिए कराए गए हैं और अब जब १२ जनवरी को जीएम का आगमन हो रहा है तो संभाग के रेल यात्रियों में सुविधाओं के विस्तार की कुछ उम्मीदें तो जगी है और उन उम्मीदों पर जीएम कितने खरे उतरते हैं? यह तो उनके दौरा कार्यक्रम के दौरान ही पता चलेगा। फिलहाल संभागीय मुख्यालय के रेलवे स्टेशन में सुविधाओ के विस्तार की प्रमुख रूप से जो मांगे पिछले कई अरसे लंबित हैं, उनमेंं नागपुर और मुम्बई के लिए सीधी ट्रेन, प्लेटफार्म नम्बर एक से दो व तीन में मरीज और बुजुर्गों के आने-जाने के लिए रैम्प और प्लेटफार्म एक, दो व तीन में शेड का विस्तार व प्लेटफार्म नम्बर एक में कोच इंडीकेशन डिस्प्ले की मांग सहित अन्य कई मांगें है। इसके लिए पूर्व सांसदों सहित कई जनप्रतिनिधियों, वरिष्ठ नेताओं एवं प्रबुद्ध नागरिकों द्वारा समय-समय पर रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों एवं केन्द्रीय मंत्रियों से मांग की जाती रही है एवं रेलवे जोन की बैठक में इस मांगों को प्रमुखता से उछाला गया है, मगर आज तक इन मांगों को पूरा नहीं किया गया है।
करोड़ों का राजस्व, पर सुविधाओं की कमी
संभागीय मुख्यालय के रेलवे स्टेशन से प्रतिदिन छह से सात हजार यात्रियों का आना-जाना बना रहता है। जिससे रेल विभाग को प्रतिदिन तीन लाख रुपए से ज्यादा का राजस्व प्राप्त होता है। इस प्रकार यहां से प्रति वर्ष करोड़ों रुपए की आय रेल विभाग को होती है। जिसके एवज मेें इस क्षेत्र के रहवासियों को सुविधाएं नहीं मिल रही है। इस रेल स्टेशन से संभागीय मुख्यालय सहित आसपास के सैकड़ों गांव के लोग रोजाना आवागमन करते हैं। जिनमें कर्मचारियों, व्यापारियों एवं बुजुर्गों की ज्यादा संख्या होती है। साथ ही गंभीर मरीजों को नागपुर, बिलासपुर, जबलपुर, इंदौर एवं भोपाल ले जाने के लिए ट्रेन सरल और सुलभ साधन है।
यात्रियों की सुरक्षा की हो रही अनदेखी
संभागीय मुख्यालय के रेलवे स्टेशन व ट्रेनों में लूट एवं चोरी करने वाला गिरोह सक्रिय रहता है और यात्रियों की सुरक्षा की व्यापक तौर पर अनदेखी की जा रही है। पीडि़त पक्ष को यह मालूम नहीं रहता कि उसे रिपोर्ट कहां दर्ज करानी है? वह अक्सर आरपीएफ और जीआरपी में कन्फ्यूज रहता है। बताया गया है सर्वाधिक लूट और चोरी की घटना चिरमिरी-रीवा-चिरमिरी ट्रेन में हो रही है और कई घटनाएं होने के बाद भी सुरक्षा व्यवस्था पर ध्यान नहींं दिया जा रहा है।
एफओबी में तकनीकी फाल्ट
स्थानीय रेलवे स्टेशन में तैयार किए गए फुट ओवर ब्रिज के निर्माण में तकनीकी फाल्ट बताया जा रहा है। अधिकांश लोगों का कहना है कि एफओबी में बनी सीढिय़ां इतनी ज्यादा खड़ी कर दी गई है कि उसमें चढऩे व उतरने में लोगों की सांसे फूलने लगती है। बताया गया है प्लेटफार्म नम्बर एक से दो और तीन में जाने के लिए दो एफओबी है। जिसमें पुराने एफओबी में चढऩे-उतरने में उतनी थकान नहीं लगती। जितना नए में लगती है। इसलिए प्रतिदिन सफर करने वाले रेलयात्री नए एफओबी में चढ़ते ही नहीं है।

इन ट्रेनों की मांगों पर नहीं दिया जा रहा ध्यान
>> शहडोल संभागीय मुख्यालय से मुम्बई व नागपुर आने-जाने के लिए सीधी टे्रन की मांग है।
>> शहडोल से चेन्नई, मद्रास, पटना, कलकत्ता एवं बेंगलुरु के लिए भी सीधी ट्रेन की मांग है।
>> शक्तिपुंज एक्सप्रेस को कटनी-शहडोल से होकर चलाने की मांग है।

बी-ग्रेड के स्टेशन में यह सुविधाएं जरूरी
>> प्लेटफार्म क्रमांक एक से दो व तीन में मरीजों, नि:शक्तों एवं वृद्धजनों को आने-जाने के लिए रैम्प निर्माण की मांग कई वर्षों से की जा रही है, जो आज तक अधूरी है।
>> प्लेटफार्म नम्बर एक में डिजिटल कोच इंडीकेशन बोर्ड लगाना जरूरी है, क्योंकि इस प्लेटफार्म से गुजरने वाली ट्रेनों में चढऩे के लिए यात्रियों को काफी दिक्कतें होती है।
>> प्लेटफार्म नम्बर एक, दो व तीन में के शेड का विस्तार अत्यंत जरूरी है, क्योंकि एसी कोच में सफर करने वाले यात्री धूप, ठंड और बारिश में काफी परेशान होते हैं।
>> संभागीय मुख्यालय के रेलवे स्टेशन मेें कहीं भी एटीएम की सुविधा नहीं दी गई है। जिससे आपातकालीन स्थिति में यात्रियों को रुपया के लिए भटकना पड़ता है।
>> रेलवे स्टेशन परिसर में मेडिकल की दुकान और आकस्मिक चिकित्सा सुविधा भी जरूरी है। स्टेशन में आपातकालीन स्थिति में कॉल करने पर डॉक्टर उपलब्ध हो पाते हैं।

जीएम साहब, एक नजर चांदनी चौंक कॉलोनी में भी डालें
रेलवे कॉलोनी में जीएम के रूट चार्ट के अंतर्गत आने वाले क्वार्टरों व सडक़ों का जीर्णोंद्धार तो कर दिया गया, मगर जीएम की आंखों से ओझल चांदनी चौंक के पास न तो साफ-सफाई कराई गई और न ही रेल क्वार्टरों का मरम्मतीकरण कराया गया। जिससे वहां निवासरत रेल कर्मचारियों के परिजनों काफी रोष देखा गया है। परिजनों का कहना है कि जीएम साहब यदि उनकी क्वार्टर व साफ-सफाई की व्यवस्था को यदि एक बार देख ले तो विभागीय अधिकारियों की कारगुजारियों की पोल स्वमेव खुल जाएगी।

रूट चार्ट से हटकर जीएम कर सकते है रेलवे स्टेशन व कॉलोनी का निरीक्षण
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन के महाप्रबंंधक सुनील कुमार सोइन के दौरा कार्यक्रम का रूट चार्ट तो तैयार किया गया है, मगर विभागीय सूत्रों के अनुसार वह रूट चार्ट से हटकर रेलवे स्टेशन व कॉलोनी का निरीक्षण करेंगे। घोषित कार्यक्रम के अनुसार सोइन १२ जनवरी को सुबह ६.३० बजे से ८.३० बजे तक कटनी में, सुबह ९.५२ बजे से ११.२७ बजे तक उमरिया में और दोपहर १२.५३ बजे से दोपहर ३.३८ बजे तक शहडोल के रेलवे स्टेशन व कॉलोनी का निरीक्षण करेंगे।

भाजपा नेताओं ने रेलमंत्री को संभाग की रेल समस्याओं से कराया अवगत
भाजपा के प्रदेश महामंत्री व राज्य सभा सदस्य अजय प्रताप सिंह के नेतृत्व में प्रदेश उपाध्यक्ष पूर्व विधायक रामलाल रौतेल भाजपा जिला अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह छाबड़ा व रेल उपभोक्ता सलाहकार समिति के सदस्य इंजीनियर संतोष लोहानी ने नई दिल्ली में रेल भवन में रेलमंत्री पीयूष गोयल से भेंट कर क्षेत्र की रेल समस्याओं से अवगत कराया। जिसमें प्रमुख रूप से नागपुर के लिए सीधी ट्रेन की सुविधा व गोंदिया एक्सप्रेस का बुढार में स्टॉपेज की मांग रही। दोनों मांगों को शीघ्र पूर्ण करने का आश्वासन रेलमंत्री द्वारा दिया गया। इसके अतिरिक्त क्षेत्र की प्रमुख रेल समस्याओं से भी उन्हें अवगत कराया गया। जिसमें एक्सलैटर लिफ्ट व रेम्प शहडोल-अनूपपुर के स्टेशन में लगाने की चर्चा पर रेलमंत्री ने उसे जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया है।

Published On:
Jan, 12 2019 07:05 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।