सामूहिक अवकाश में रहेंगे डॉक्टर, प्रभावित होंगे एक हजार मरीज

By: Amaresh Singh

Published On:
Jul, 16 2019 06:35 PM IST

  • सात मांगों को लेकर चिकित्सा शिक्षकों का कल आंदोलन

शहडोल। मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर और चिकित्सा शिक्षक सात मांगों को लेकर कल 17 जुलाई को एक दिन के सामूहिक अवकाश पर रहेंगे। इससे जिला अस्पताल इलाज के लिए पहुंचने वाले एक हजार से ज्यादा मरीजों पर असर पड़ेगा। एसोसिएशन के अनुसार, पूर्व में सरकार का अल्टीमेटम के बाद भी कोई नतीजा न निकलने पर हड़ताल को विवश हैं। विरोध करते हुए सातवां वेतनमान, समयमान वेतनमान, समयबद्ध पदोन्नति, चिकित्सा प्रतिपूर्ति, गेचुयटी, सामूहिक बीमो, पेंशन योजना और महिला चिकित्सकों के लिए चाइल्ड केयर लीव को लेकर शासन के समक्ष दोबारा मांग रखी जाएगी।

कोई ध्यान नहीं दिया गया

मेडिकल टीचर एसोसिएशन के अध्यक्ष व सचिव ने बताया कि 14 जून 2019 को चिकित्सा शिक्षा मंत्री से भी मुलाकात की गई थी लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया। डॉक्टरों और चिकित्सकों को कई सुविधाओं से वंचित रखा गया है। अध्यक्ष के अनुसार पहले 17 जुलाई को सामूहिक अवकाश किया जाएगा। मांगों पर विचार न करने पर 24 से 26 जुलाई को समस्त शिक्षकों का सामूहिक अवकाश, 26 जुलाई के 15 दिन बाद सामूहिक इस्तीफा दिया जाएगा।


ओपीडी प्रभावित, इमरजेंसी सेवाएं यथावत
मेडिकल कॉलेज शहडोल के डॉक्टर लगभग एक हजार मरीजों की हर दिन जांच करते हैं। सामूहिक अवकाश में होने की वजह से इन मरीजों को दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। अलग-अलग विशेषज्ञ न बैठने से मरीजों को इलाज नहीं मिल पाएगा। हालांकि डॉक्टरों ने इमरजेंसी सेवाओं को यथावत रखा है।


मेडिकल कॉलेज शुरू होते ही विरोध और हड़ताल
शहडोल मेडिकल कॉलेज को हाल ही में एमसीआई ने कक्षाओं के संचालन को लेकर अनुमति दी है। मेडिकल कॉलेज संचालित होते ही यहां डॉक्टरों का विरोध और हड़ताल शुरू हो गया है। शहडोल के अलावा उमरिया, अनूपपुर, डिंडौरी के साथ ही छग के जनकपुर तक से मरीज यहां इलाज के लिए पहुंचते हैं। डॉक्टरों के विरोध और हड़ताल का खामियाजा इन बेवश मरीजों को भुगतना पड़ेगा।

अस्पताल में वैकल्पिक व्यवस्था
जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ उमेश नामदेव ने कहा कि
मरीजों की सहूलियत के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। इमरजेंसी सेवाएं प्रभावित नहीं रहेंगी। ओपीडी में अलग-अलग शिफ्टों में डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई जा रही है।

Published On:
Jul, 16 2019 06:35 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।