अस्पताल में न दवा मिल रही न हो रही मरहम-पट्टी

By: Amaresh Singh

Published On:
Aug, 13 2019 08:06 PM IST

  • छुट्टी के दिन मरीजों को बाहर से लेनी पड़ती है दवा

शहडोल। भाई, आज छुट्टी है। डॉक्टर वहां बैठे हैं। डॉक्टर देख लेंगे लेकिन मरहम पट्टी के लिए कल आना। कुछ ऐसा ही वाक्या जिला अस्पताल में सोमवार को छुट्टी के दिन देखने को मिला। जिला अस्पताल में छुट्टी के दिन मरीजों को इलाज और दवा के लिए काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अस्पताल में छुट्टी के दिन दवा काउंटर बंद रहता है। इसलिए मरीजों को बाहर से दवाइंयां खरीदनी पड़ती है। सोमवार को ईद के दिन यही नजारा देखने को मिला। ओपीडी में डॉक्टर को दिखाने आए मरीजों के परिजनों को बाहर से दवाइयां खरीदनी पड़ी। वहीं मरहम-पट्टी नहीं होने से मरीज परेशान नजर आए।


इलाज के लिए पहुंचे 3 सौ 74 मरीज
सोमवार को ईद के दिन जिला अस्पताल में इलाज के लिए 374 मरीज पहुंचे। इसमें ओपीडी में 159 मरीज पहुंचे। वहीं आईपीडी में 115 मरीज इलाज के लिए भर्ती हुए। इन मरीजों को डॉक्टर ने देख तो लिया लेकिन इनके परिजनों को दवा नहीं मिली। इसलिए मरीजों के परिजनों को बाहर से दवाइंयां खरीदनी पड़ी।


बाहर से ला रहे हैं दवाइयां
मरीज के परिजन महेश धुर्वे ने कहा कि अस्पताल में छुट्टी के दिन दवाइयां नहीं मिल रही है। बाहर से दवाइयां खरीदकर ला रहे हैं। दवा के साथ अस्पताल में मरहम-पट्टी भी नहीं होती है।


मरहम पट्टी नहीं, इसलिए लौट गए
मरहम-पट्टी कराने पहुंचे रमेश सिंह ने कहा मरहम-पट्टी नहीं हो रही है। इसलिए वापस जाना पड़ रहा है। छुट्टी का पता होता तो पहले ही नहीं आते। अब दूसरे क्लीनिक जाएंगे। इस संबंध में सिविल सर्जन डॉ उमेश कुमार नामदेव ने कहा कि इमरजेंसी में अस्पताल में सभी सुविधाएं मिलती है। मरीजों को दवा और मरहम-पट्टी होती है।

Published On:
Aug, 13 2019 08:06 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।