जानिए, काजू कैसे संवारेगा सिवनी के तीन किसानों की किस्मत

By: Akhilesh Kumar

Published On:
Aug, 13 2019 12:43 PM IST

  • 200 हेक्टयर खेत में 300 किसान काजू से संवारेंगे किस्मत - घंसौर व कुरई विकासखंड में काजू के पौधे लगाने की शुरुआत - उद्यानिकी विभाग करेगा देख-रेख

अखिलेश ठाकुर सिवनी. जिले के घंसौर और कुरई विकासखंड के करीब तीन सौ किसानों के दिन फिरने वाले हैं। वे दो सौ हेक्टेयर में काजू के उन्नत किस्म का पौधा लगाएंगे। इसके लिए उद्यानिकी विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। काजू एवं कोको विकास निदेशालय कोच्ची के निदेशक डॉ. वेंकटेश एन हुबल्ली की टीम ने यहां इसकी संभावना तलाशी है। वे विगत माह जिले में निरीक्षण के लिए आए थे। उनके निरीक्षण किए जाने के बाद इस दिशा में उद्यानिकी विभाग ने शुरुआत कर दी है।

 

घंसौर और कुरई विकासखंड के 100-100 हेक्टेयर जमीन पर पहली बार काजू लगाए जाएंगे। इसमें अब तक चिन्हित किए गए किसानों में कम से कम एक एकड़ और इससे अधिक भूमि पर काजू लगाने की सहमति दी है। सभी किसानों के लिए पौधे मंगाए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अगस्त और सितंबर माह में पौधे लगा दिए जाने हैं। काजू का पौधा लगाने वाले किसानों को शासन से अनुदान मिलेगा। इसकी देख-रेख उद्यानिकी विभाग और उक्त निदेशालय की टीम करेगी।

 

30 किसानों को दिए थे 450 पौधे
विगत कुछ वर्ष पूर्व जिले के 30 किसानों को 450 काजू के पौधे दिए गए थे। इन किसानों से मिलने विगत माह काजू एवं कोको विकास निदेशालय कोच्चि केरल के निदेशक डॉ. व्यंकटेश सिवनी आए और मिले। उन पौधे में लगे फल को देखा। किसानों को काजू उत्पादन करने में ध्यान रखने योग्य बारीकियों से अवगत कराया। उक्त पौधे की देखरेख करने से लेकर उसमें फल लगने तक के कार्य में उद्यानिकी विभाग का सहयोग हैं।

 

मध्यप्रदेश के चार जिले चयनित
प्रदेश के चार जिलों मे काजू के पौधे बड़े पैमाने पर लगाने की शुरुआत की गई है। इसमें सिवनी, छिंदवाड़ा, बालाघाट व बैतूल है। यदि इन चारों जिलों में काजू का उत्पादन बेहतर हुआ तो आने वाले दिनों में प्रदेश के दूसरे जिले में इस दिशा में कार्य होगा।

स्वयं करुंगा स्थलीय निरीक्षण
जिले में काजू के पौधे लगाने का लक्ष्य मिला है। इस दिशा में उद्यानिकी विभाग ने कार्य तेज कर दिया है। कार्यों का स्थलीय निरीक्षण करने 14 अगस्त को मैं फिल्ड में जाऊंगा।
- प्रवीण सिंह, कलेक्टर सिवनी

Published On:
Aug, 13 2019 12:43 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।