breaking : सरकार ने की बड़ी कार्रवाई, नगर पालिका अध्यक्ष को पद से हटाया

By: Amit Mishra

Updated On:
24 Aug 2019, 06:57:15 PM IST

  • नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ वित्तीय अनियमित्ताओं को लेकर चल रही थी जांच।
    -जांच में दोषी पाए जाने पर नगरीय प्रशासन ने जबाव प्रस्तुत करने के लिए दिया सात दिन का समय।
    - नगर पालिका अध्यक्ष ने निर्धारित समय सीमा में नहीं दिया जबाव।
    - शासन ने फिर से समय दिया, फिर भी अध्यक्ष ने नहीं रखा अपना पक्ष।
    - शासन ने कार्रवाई करते हुए अध्यक्ष पद से हटाया।

सीहोर। नगर पालिका सीहोर की अध्यक्ष nagar palika adhyaksh अमिता अरोरा को नगरीय प्रशासन ने पद से हटा removed दिया। नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ complaint against वित्तीय अनियमित्ताओं Financial irregularities को लेकर चल काफी समय से जांच चल रही थी। जांच में दोषी पाए जाने पर नगरीय प्रशासन ने नगर पालिका सीहोर की अध्यक्ष अमिता अरोरा को जबाव प्रस्तुत करने के लिए दिया सात दिन का समय दिया था। नगर पालिका अध्यक्ष ने निर्धारित समय सीमा में जबाव नहीं दिया। बताया जा रहा है कि निर्धारित समय सीमा में जबाब नहीं देने के बाद शासन ने एक बार फिर से नगर पालिका सीहोर की अध्यक्ष अमिता अरोरा को समय दिया। लेकिन उसके बाद नगर पालिका सीहोर की अध्यक्ष अमिता अरोरा ने अपना पक्ष नहीं रखा। जिसके बाद से शासन ने कार्रवाई करते हुए नगर पालिका सीहोर की अध्यक्ष अमिता अरोरा को पद हटा दिया।

 

nagar palika adhyaksh

पार्षद और नगर पालिका अध्यक्ष के बीच मची थी कलह
सीहोर नगर पालिका में वित्तीय अनियमितताओं को लेकर पार्षद और नगर पालिका अध्यक्ष के बीच कलह मची हुई थी। इसके पहले नगर पालिका अध्यक्ष अमीता अरोरा ने अपना पक्ष रखने के लिए एक प्रेसवार्ता की थी। प्रेसवार्ता में नगर पालिका अध्यक्ष अमीता अरोरा ने पार्षदों पर ठेकेदारी करने और गलत फाइलों पर हस्ताक्षर के लिए दबाव बनाने का charged up आरोप लगाया था। अमिता अरोरा के पति जसपाल अरोरा ने कहा था कि कांग्रेस सरकार पर उनके खिलाफ साजिश conspiracy कर रही है। इसके बाद पूर्व विधायक रमेश सक्सेना ने मीडिया से रूबरू होकर अरोरा के सभी आरोपों को निराधार बता दिया था।

 

कांग्रेस ने मुझे लालच दिए, मैंने ज्वाइन नहीं की: अरोरा
नगर पालिका अध्यक्ष अमिता अरोरा के पति पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जसपाल अरोरा ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला था। नपा की वित्तीय अनियमितताओं की जांच में फंसी पत्नी का बचाव करते हुए भाजपा नेता जसपाल अरोरा ने कहा कि लोकसभा चुनाव के समय कांग्रेस ने मेरे लिए काफी एप्रोच की थी। मुझे मनमर्जी का चुनाव लड़ाने और निगम मंडल का अध्यक्ष बनाने तक का प्रलोभन दिया गया था, लेकिन मैंने मना कर दिया था, जिसे लेकर सरकार झूठे प्रकरण तैयार कर हमें फंसाया।

Updated On:
24 Aug 2019, 06:57:15 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।