रात आठ बजे नपा कैसे पहुंची गायब पीएम आवास की फाइल, एडीएम करेंगे सात दिन में जांच

By: Kuldeep Saraswat

|

Published: 25 Aug 2019, 11:39 AM IST

Sehore, Sehore, Madhya Pradesh, India

सीहोर. नगर पालिका से एक साल पहले गायब पीएम आवास की फाइल 22 अगस्त को रात 8 बजे नगर पालिका कैसे पहुंची और नगर पालिका का दफ्तर कैसे खुल गया, इसकी जांच एडीएम वीके चतुर्वेदी करेंगे। कलेक्टर अजय गुप्ता ने रात को गुपचुप तरीके से प्रधानमंत्री आवास योजना की फाइल नगर पालिका पहुंचाने के मामले में संज्ञान लेते हुए एडीएम वीके चतुर्वेदी को जांच करने के आदेश दिए हैं। एडीएम सोमवार से जांच शुरू करेंगे।

जानकारी के अनुसार एक साल पहले तत्कालीन नगर पालिका सीएमओ ईशांक धाकड़ के समय पीएम आवास योजना की करीब 1335 फाइल इंदौर की एक कंपनी को डाटा ऑनलाइन एंट्री करने के लिए दी गईं थी। फाइल अचानक नगर पालिका से गायब हो गई। पीएम आवास की फाइल गायब होने को लेकर हितग्राहियों को आवास योजना का लाभ नहीं मिल सका। पहले तो पार्षदों ने मौखिक रूप से नगर पालिका अफसरों से आवास योजना की फाइल मंगाने की बात कही, लेकिन जब किसी ने नहीं सुनी तो 20 अगस्त को सीएमओ को ज्ञापन सौंपकर मांग की कि तत्काल पीएम आवास की फाइलों की तलाश की जाए और फाइल नहीं मिलें तो तत्कालीन सीएमओ ईशांक धाकड़ सहित सभी जिम्मेदारों के खिलाफ कोतवाली थाने में एफआईआर कराई जाए।

पार्षदों की शिकायत को पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया, जिसे लेकर दूसरे दिन रात 8 बजे कुछ नगर पालिका के कर्मचारी और बाहरी व्यक्तियों की मदद से गुपचुप कुछ फाइल नगर पालिका पहुंचा दी गईं। रात को अचानक लोडिंग वाहन में भरकर फाइलों के नगर पालिका पहुंचने को लेकर कलेक्टर अजय गुप्ता ने नाराजगी व्यक्त करते हुए एडीएम को सात दिन में जांच रिपोर्ट देने के आदेश दिए हैं।
वर्जन....
- नगर पालिका से पीएम आवास की फाइलों के गायब होने और फिर रात को 8 बजे गुपचुप नगर पालिका पहुंचने को लेकर एडीएम को जांच करने के आदेश दिए हैं। एडीएम सात दिन में जांच रिपोर्ट देंगे। रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
अजय गुप्ता, कलेक्टर सीहोर

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।