अंतरिक्ष में क्रांति करने जा रहा ये देश, भविष्य में लिफ्ट से जाएंगे अंतरिक्षयात्री

By: Vineet Singh

Published On:
Sep, 06 2018 03:36 PM IST

  • फिलहाल इस एलिवेटर से लोग अंतरिक्ष में नहीं भेजे जाएंगे लेकिन कुछ सालों बाद अंतरिक्ष यात्रियों को भी इसी एलिवेटर के जरिए अंतरिक्ष में भेजने की जापान की योजना है

नई दिली: सोचिए क्या हो अगर अंतरिक्ष बिल्डिंग की तरह अंतरिक्ष में जाने के लिए भी एलिवेटर लग जाए। ये सपना नहीं सच होने जा रहा है। जापान अंतरिक्ष में एक बना रहा है जिसकी तैयारी इसी माह से शुरु होने जा रही है। हालांकि फिलहाल इस एलिवेटर से लोग अंतरिक्ष में नहीं भेजे जाएंगे लेकिन कुछ सालों बाद अंतरिक्ष यात्रियों को भी इसी एलिवेटर के जरिए अंतरिक्ष में भेजने की जापान की योजना है जिसे 2050 तक पूरा करने की योजना है।

खबर के मुताबिक जापान की शिंजुओका यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अभी परीक्षण के लिए बिल्कुल छोटा एलिवेटर बनाया है। इसमें एक बॉक्स होगा जो सिर्फ छह सेंटीमीटर लंबा, तीन सेंटीमीटर चौड़ा और तीन सेंटीमीटर ऊंचा है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो अंतरिक्ष में दो मिनी सैटेलाइट्स के बीच 10 मीटर तक का केबल लगाया जा सकेगा। इससे दोनों सैटेलाइट एक-दूसरे से अच्छी तरह संपर्क में रहेंगे। एलिवेटर बॉक्स की हर गतिविधि पर बारीकी से नजर रखने के लिए सैटेलाइट में कैमरे भी लगाए जाएंगे। कहा जा रहा है कि अंतरिक्ष में एलिवेटर इस्तेमाल के महत्वाकांक्षी सपने को पूरा करने के लिहाज से यह शुरुआती प्रयोग भर है।

अगले हफ्ते जापान की स्पेस एजेंसी तानेंगशिमा इसके जरिए एच-2B रॉकेट का लॉन्च कर सकती है। अंतरिक्ष में एलिवेटर का आइडिया पहली बार रूस के वैज्ञानिक कॉन्स्टानटिन तॉसिल्कोवास्की ने 1895 में दिया था। उनके मन में यह विचार एफिल टावर देखने के बाद आया था। करीब एक सदी बाद ऑर्थर सी क्लार्क ने अपने उपन्यास में भी यह विचार दोहराया। हालांकि, तकनीकी बाधाओं की वजह से इस दिशा में कोई बड़ी प्रगति नहीं हो सकी।

जापान की निर्माण कंपनी ओबायाशी इंसान को अंतरिक्ष में भेजने वाला एलिवेटर बनाने की तैयारी में है। ओबायाशी भी शिजुओका यूनिवर्सिटी के प्रयोग से जुड़ी है। यह कंपनी 2050 में खुद के बनाए एलिवेटर से इंसान को अंतरिक्ष में भेजना चाहती है। उसका कहना है कि स्पेस एलिवेटर बनाने में कार्बन नैनोट्यूब तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। कार्बन बेहद हल्का और स्टील से 20 गुना मजबूत होता है।

यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता ने बताया, 'यह विश्व का पहला ऐसा प्रयोग है जिसमें अंतरिक्ष में ऐलिवेटर के इस्तेमाल को लेकर काम किया जा रहा है।' ऐलिवेटर बॉक्स की हर गतिविधि पर बारीकी से नजर रखने के लिए सैटेलाइट में कैमरे भी लगाए जाएंगे। हालांकि, अंतरिक्ष में ऐलिवेटर इस्तेमाल के महत्वाकांक्षी सपने को पूरा करने के लिए लिहाज से यह अभी बस शुरुआती प्रयोग भर ही है।

Published On:
Sep, 06 2018 03:36 PM IST

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।