दो दशक से किराए की भूमि पर संचालित रोडवेज बस स्टैण्ड

By: Rajeev Pachauri

Updated On:
10 Sep 2019, 08:25:06 PM IST

  • गंगापुरसिटी . राजस्थान परिवहन निगम (रोडवेज) की बस सेवा से शहर से प्रतिदिन करीब एक हजार यात्री यात्रा करते हैं, लेकिन रोडवेज यहां स्वयं का बस स्टैण्ड नहीं बना सका है। हालत यह है कि रोडवेज का बस स्टैण्ड दो दशक से कोर्ट सर्किल के पास किराए की भूमि में संचालित हो रहा है। इसके चलते यात्रियों को आवश्यक सुविधाएं नहीं मिल पा रही है।

गंगापुरसिटी . राजस्थान परिवहन निगम (रोडवेज) की बस सेवा से शहर से प्रतिदिन करीब एक हजार यात्री यात्रा करते हैं, लेकिन रोडवेज यहां स्वयं का बस स्टैण्ड नहीं बना सका है। हालत यह है कि रोडवेज का बस स्टैण्ड दो दशक से कोर्ट सर्किल के पास किराए की भूमि में संचालित हो रहा है। इसके चलते यात्रियों को आवश्यक सुविधाएं नहीं मिल पा रही है।


यात्री सुविधाओं के नाम पर स्टैण्ड परिसर में एक पाटौरपोश और एक टीनशैड मात्र है। परिसर में गंदगी का आलम भी बना हुआ है। ऐसे में लोग बसों की प्रतीक्षा में इधर-उधर बैठने को मजबूर हैं। खासकर बारिश के दिनों में यात्रियों को अधिक परेशानी का सामना करना पड़ता है। बारिश के कारण यात्री आसपास की दुकानों पर छिपने को मजबूर होते हैं। स्टैण्ड परिसर में हमेशा गंदगी का आलम भी बना रहता है। रोडवेज के चालक-परिचालक भी असुविधा महसूस करते हैं।


नौ डिपो की बसों का संचालन


शहर से रोडवेज की करीब 9 डिपो की बसें संचालित होती हैं। इनमें प्रमुख तौर पर दौसा, हिण्डौनसिटी, वैशाली, जयपुर, धौलपुर, अलवर, तिजारा, भीलवाडा एवं सवाई माधोपुर डिपो की बसें संचालित होती हैं। शहर से जयपुर, दिल्ली, ग्वालियर, अलवर, भीलवाडा, हिण्डौनसिटी व करौली रूट पर बसें संचालित हैं। सबसे अधिक बसें दौसा डिपो की चलती हैं। इसके बाद भी स्टैण्ड पर यात्री सुविधाओं का अभाव बना हुआ है।


सवाईमाधोपुर को एक ही बस


जिला मुख्यालय पर सवाईमाधोपुर के लिए एक ही बस धौलपुर व सवाई माधोपुर के बीच संचालित हैं, जबकि इस मार्ग पर अधिक बसों की आवश्यकता है। जिला मुख्यालय होने के नाते लोगों का आवागमन अधिक रहता है। मार्ग में भी कई गांव पड़ते हैं। ऐसे में लोगों को अधिकतर सवाई माधोपुर आने-जाने के लिए ट्रेन पर निर्भर रहना पड़ता है।


कारगर नहीं हुई कवायद


दरअसल रोडवेज को सुविधाजनक भूमि नहीं मिल पाने के कारण स्वयं के स्टैण्ड का निर्माण नहीं हो सका है। ऐसे में रोडवेज की ओर से प्राइवेट बस स्टैण्ड के पास क्रय-विक्रय सहकारी समिति की खाली पड़ी भूमि पर स्टैण्ड तैयार करने की कवायद भी शुरू की गई। रोडवेज अधिकारियों ने भूमि का अवलोकन भी किया, लेकिन किराया राशि को लेकर सहमति नहीं बनने से कवायद मूर्त रूप नहीं ले सकी।


एक नजर में आंकड़े


02 दशक से किराए पर संचालित
01 हजार यात्री प्रतिदिन
09 डिपो की बसें संचालित


बैठने को जगह नहीं


स्टैण्ड पर व्यवस्था के नाम पर कुछ भी नहीं है। यहां तक की बैठने के लिए भी उचित स्थान नहीं है। सबसे खराब कंडीशन है। बसों के बारे में बताने वाला भी नहीं।
- जमनालाल मीना, यात्री लालसोट

कहां करें इंतजार


स्टैण्ड पर गंदगी का आलम है। प्लेटफार्म की बात तो दूर वेटिंग हॉल तक नहीं है। यात्री बसों का कहां इंतजार करें। पानी भी लोग खरीदकर पीने को मजबूर हैं।
- रामजीलाल, यात्री सवाईमाधोपुर


प्रशासन से मिले हैं


सुविधाजनक स्थान पर रोडवेज बस स्टैण्ड के लिए भूमि आवंटन के लिए प्रशासन को लिखा गया। निगम के अधिकारी प्रशासनिक अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से मिल चुके हैं। सुविधाजन स्थान पर भूमि मिलनी चाहिए।
-त्रिलोक वैष्णव, मैनेजर ट्रैफिक हिण्डौन डिपो।

Updated On:
10 Sep 2019, 08:25:06 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।