सागर. यह है संजय ड्राइव रोड। इसके लगभग ५०० सौ मीटर के दायरे में ५०० से भी अधिक जानलेवा गड्ढे हो गए हैं। वह भी तब जबकि चंद रोज पहले ही नगर निगम प्रशासन ने पैचवर्क कराया था। लेकिन पिछले सप्ताह हुई बारिश के कारण गट्टियां उखड़ गईं और सीमेंट भी बह गई। लोग बताते हैं कि पैचवर्क के नाम पर भी खानापूर्ति की गई, क्योंकि गड्ढे भरने के लिए जो मटेरियल डाला गया वह घटिया था। लिहाजा, कुछ दिन बाद ही पैचवर्क रूपी भ्रष्टाचार की परतें उखड़ गई। यह रोड शहर के अतिव्यस्तम मार्ग में से एक हैं। रोजाना सैकड़ों लोगों का यहां से आना-जाना होता है। शहर से भोपाल व भोपाल से शहर में आने-जाने वाली अधिकांश बसें इसी मार्ग से गुजरती हैं। मालवाहक भारी वाहन भी गुजरते हैं। इसके बोझ से सड़क दिनों-दिन जर्जर हो रही है। गड्ढे इतने बड़े-बड़े हो गए हैं कि दोपहिया वाहन चालक आए दिन हादसे का शिकार हो रहे हैं। नगर निगम प्रशासन के अधीन यह रोड है, यदि शीघ्र ही इन जानलेवा गड्ढों को नहीं भरा गया तो बड़ा हादसे से इनकार नहीं किया जा सकता है। इस मार्ग की तरह ही शहर के अन्य प्रमुख मार्गों पर भी राहगीरों के लिए गड्ढे मुसीबत बन गए हैं। कुछ दिन पहले जहां महापौर अभय दरे ने स्वयं खड़े होकर गड्ढे भरवाए थे वहां भी अधिकांश स्थानों पर फिर से गड्ऐ उभर आए हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।