देखिए...आजादी से पहले कैसे छपते थे शादी के कार्ड

By: Satish Likhariya

Updated On:
24 Aug 2019, 01:11:18 PM IST

  • प्रदर्शनी में झलकी भारतीय संस्कृति

सागर. शुक्रवार को सत्यम कला एवं संस्कृति संग्रहालय की नि:शुल्क प्रदर्शनी अहमदनगर में लगाई गई। सागर के वरिष्ठ प्रबुद्ध जनों ने प्रदर्शनी का सूक्ष्म अवलोकन किया। प्रदर्शनी में १९३६ के समाचार पत्र, बुंदेलखण्ड के पुराने बर्तन, वर्षों पुराने महिला आभुषण, डाक टिकिट, हस्त लिखित पत्र और १९२५ से अब तक के शादी के कार्ड को देखने को मौका लोगों के लिए मिला। संग्रहालय के संचालक दामोदर अग्रिहोत्री ने बताया कि वे २५ सालों से इन वस्तुओं का संग्रह करते आ रहे हैं। प्रदर्शनी में रखी सामग्री को देखकर लोग भी रोमांचित हुए। उन्होंने कई सामग्री का बारीकी से अवलोकन किया।
इस मौके पर समिति संरक्षक उमाकांत मिश्र, अध्यक्ष दामोदर अग्निहोत्री, सचिव विनोद मिश्रा,शरद सिंह, डॉ वर्षा सिंह, चंचला दबे, मुन्ना शुक्ला, डॉ. प्रदीप शुक्ला, ओमप्रकाश चौबे, डॉ रजनीश जैन, पीआर मलैया, विन्द्रावन राय सरल, निर्मल कुमार मिश्रा, राघवेंद्र तिवारी, रूपनारायन दुबे, राजेन्द्र अग्निहोत्री, हनुमत सिंह ठाकुर, पर्वत सिंह ठाकुर और बुन्देल सिंह आदि उपस्थित रहे।

 

Updated On:
24 Aug 2019, 01:11:18 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।