कब पकड़े जाएंगे तराई अंचल में अंधी हत्याओं के अपराधी

By: Anil Kumar

Updated On:
24 Aug 2019, 05:17:57 PM IST

  • कब पकड़े जाएंगे तराई अंचल में अंधी हत्याओं के अपराधी
    कागज में दफन है दर्जनों हत्याओं का राज

रीवा/चाकघाट. त्योंथर अंचल के पुलिस थाना चाकघाट एवं सोहागी के अन्र्तगत विगत कई वर्षों से घटित हत्या के अनेक मामले ठंडे बस्ते में बन्द होकर रह गए हैं। जिस पर पुलिस की कार्रवाई मर्ग कायम, पोस्टमार्टम एवं लाश को दफनाने तक ही सीमित रही है।

गरीबी बनी मुसीबत
मृतक चूंकि गरीब परिवार से थे इसलिए पुलिस प्रशासन ने इस पर गंभीरता नहीं दिखाई। चाकघाट थाना के ग्राम सतपुरा में रामखेलावन तिवारी एवं उनकी पत्नी की दिन दहाड़े उनके घर में घुसकर अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी थी । हत्या का मामला कायम है किन्तु हत्यारे अभी तक नहीं पकड़े गए। ऐसा माना जाता है कि इस मामले सही ठंग से जांच नहीं हो पा रही है।

चाकघाट नगर के पुलिस थाना के समीप ही दुर्गा आटो मोबाइल्स के शो रूम के चौकीदार की शोरूम परिसर में ही हत्या कर दी गई थी। हत्यारे आज तक नहीं पकड़े गए। चाकघाट के बार्डर के पास रहने वाले सन्तलाल सोनी के युवा पुत्र की हत्या हुई। शव सड़क के किनारे पानी भरे गढ्ढे में मिली। लेकिन हत्या का खुलासा नहीं हो पाया। सोहागी थाने के सोनौरी क्षेत्र में एक युवती की गोली मारकर हत्या कर दी गई। शव पुल के नीचे मिला था, यह भी मामला रहस्य के घेरे में ही है। सोहागी पहाड़ पर एक युवती और उसकी अबोध बच्ची को पत्थर से कुचल कर मार डाला गया। पहाड़ पर अधजला शव मिला था। उस पर भी अभी तक कोई ठोस कार्यवाही नहीं हुई। तराई अंचल के सोहागी, चाकघाट, जवा, जनेह, डभौरा, पनवार, अंतरैला के थानों में मिली अज्ञात लाशें, जो हत्या का मामला दिख रहा था उस पर पुलिस ने मर्ग कायम करके विवेचना में शिथिलता दिखायी है, जबकि इनकी नए सिरे से जांच होनी चाहिए। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से मांग की गई है कि यदि विशेष टीम गठित करके हत्यारों की खोज करें तो इन मामलों के अपराधी पकड़े जा सकते हैं।

 

Updated On:
24 Aug 2019, 05:17:57 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।