रीवा. बीहर नदी के तट पर स्थित रीवा की मुख्य ईदगाह घोघर रीवा में सुबह शहर काजी सदर जिला शरीअत हिलाल कमेटी मुफ्ती मुहम्मद मुबारक अजहरी ने ईद उल अजहा की नमाज अदा कराई। कहा कि, परवर दिगार सच्चे दिल से की गई इबादत को कुबूल करता है। इबादत का दारोमदार नियत और ईमान पर है। अल्लाह को दिखावा पसंद नहीं। जिले में ईद उल अजहा का त्योहार सोमवार को मनाया गया। इस मौके पर सुबह घोघर ईदगाह में नमाज अता की गई। हजारों हाथ दुआ के लिए एक साथ उठे। इसके बाद सभी ने एक दूसरे को गले मिलकर बकरीद की बधाई दी। इस अवसर सांसद जनार्दन मिश्र, कलेक्टर ओम प्रकाश श्रीवास्तव, एसपी आबिद खान ने नमाजियों से गले मिलकर उन्हें बकरीद की बधाई दी। अपर कलेक्टर इला तिवारी, एएसपी शिव कुमार वर्मा, सीएसपी शिवेन्द्र सिंह, डीएसपी यातायात मनोज वर्मा ने भी नमाजियों से गले मिले और उन्हें बकरीद की बधाई दी। इस मौके पर सभी को पौधे लगाने की सलाह दी गई। कहा कि, वृक्ष पर्यावरण एवं जीवन के लिए जरूरी हैं। जब तक उस वृक्ष का वजूद रहेगा तक तब पौधे लगाने वाले को उसका पुण्य लाभ मिलेगा। इसलिए हम सब को ज्यादा से ज्यादा पौधे रोपने चाहिए। ईद उल अजहा अल्लाह की राह में कुर्बानी देकर उसकी रजा के लिए मनाया जाता है। परवर दिगार ने अपने महबूब नवीं हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम को अल्लाह के राह में अपने चहेते बेटे हजरत इस्माइल अलैहिस्सलाम को कुर्बान करने का हुक्म दिया था। जब हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम ने आंख में पट्टी बांधकर हजरत इस्माइल की कुर्बानी देने की तैयारी कर रहे थे उसी दौरान परवर दिगार ने जन्नत से बकरे की प्रजाति भेजकर हजरत इस्माइल की जगह में बकरे की कुर्बानी ली।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।